rjd railly

राजद की भाजपा भगाओ रैली में जदयू के बागी पूर्व अध्येक्ष शरद यादव शिरकत कर रहे हैं। इसके साथ ही जदयू की आंतरिक लड़ाई अब निर्णायक दौर में आ गई है। शरद ने अपने गुट को असली जदयू बताया है तो जदयू महाकसचिव केसी त्यारगी पहले ही कह चुके हैं कि शरद के राजद की रैली में शामिल होने पर पार्टी की कार्रवाई तय है।

समाजवादी राह पर चलने वाले शरद यादव अब दुविधा की जंग से पूरी तरह निकल गए हैं। जदयू की चेतावनी को दरकिनार करते हुए वे राजद की रैली में शिरकत कर रहे हैं। उनके अनुसार वे 11 करोड़ जनता के मैंडेट के साथ हैं।

rjd railly

जनता ने महागठबंधन को वेाट दिया था। नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए उन्हों ने कहा कि जो लोग इस मैंडेट के खिलाफ गए हैं, उन्हें इस्तीहफा देकर चुनाव में जाना चाहिए। कहा कि असली जदयू तो उनके साथ है। उन्हेंम नकली जदयू की कार्रवाई की कोई फिक्र नहीं।

शरद यादव ने दावा किया है कि जदयू के नेता-कार्यकर्ता उनके साथ हैं। दो महीने के भीतर वे इसे साबित कर देंगे। शरद जो भी कहें, उनकी राह इतनी आसान नहीं। राजद की रैली में शामिल होने के बाद जदयू की कार्रवाई तय है। उनकी राज्यसभा की सदस्यता जानी भी तय है। लेकिन, इससे अविचलित शरद गुट के अली अनवर कहते हैं कि सवाल राज्यदसभा की सदस्यैता का नहीं, आदर्श व सिद्धांत का है।स्पष्ट है कि 1996 में हवाला घोटाले में नाम आने भर से संसद की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले शरद इस बार इस्ती फा नहीं देने जा रहे। खुद को असली जदयू का नेता बता वे अपनी लड़ाई चुनाव आयोग के पाले में डाल रहे हैं। उन्हों ने पार्टी के चुनाव चिह्न व पार्टी कार्यालय पर दावा पहले ही कर दिया है।

rjd railly

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here