जुलाई के बाद पूरी क्षमता से खुलेगा आईआईटी पटना कैंपस, अभी ज्यादातर छात्रों की पढ़ाई होगी ऑनलाइन

जानकारी

आईआईटी पटना कैंपस सीमित संख्या में छात्रों के लिये ही खोला जाएगा। 21 फरवरी से संस्थान में बीटेक सेकेंड और एमएससी फर्स्ट ईयर की परीक्षाएं शुरू हो रही हैं। आईआईटी कैंपस में ऑफलाइन माध्यम से परीक्षाएं काफी समय बाद होंगी। संस्थान ने इन छात्रों की इनकी आगे की पढ़ाई भी ऑफलाइन माध्यम से ही संचालित करने का निर्णय लिया है।

हाल के दिनों में बीटेक सेकेंड ईयर और एमएसएसी फर्स्ट ईयर के छात्र फेजवाइज कैंपस में आने लगे हैं। 21 फरवरी से शुरू हो रही परीक्षा में बीटेक सेकेंड ईयर और एमएससी फर्स्ट ईयर के लगभग 90 प्रतिशत छात्र अभी परीक्षा में शामिल हो सकेंगे। कुछ छात्र कोविड संक्रमण या अन्य जरूरी वजहों से परीक्षा से शामिल नहीं हो सकेंगे उनके लिये संस्थान द्वारा बैकअप परीक्षा की व्यवस्था की जाएगी।

 

मार्च आरंभ से सीमित सेमेस्टर की ऑफलाइन कक्षाएं  

 

संस्थान से मिली जानकारी के अनुसार, फरवरी के अंत तक इन दो बैच की परीक्षाएं सम्पन्न हो जाएंगी। इसके बाद मार्च के आरंभ से इन दो बैच की कक्षाएं शुरू होंगी। अगले तीन से चार महीनों तक बीटेक सेकेंड ईयर और एमएससी फर्स्ट ईयर के छात्रों की ऑफलाइन कक्षाएं शुरू होंगी। बाकी सभी सभी सेमेस्टर की कक्षाएं पूर्ववत ऑनलाइन माध्यम से संचालित होती रहेंगी।

बीच सेमेस्टर में नहीं बदला जा सकता पढ़ाई का माध्यम

बीटेक सेंकेंड ईयर और एमएससी फर्स्ट ईयर के छात्रों को छोड़कर अन्य छात्रों की पढ़ाई जुलाई तक ऑनलाइन माध्यम से ही संचालित होंगी। आईआईटी पटना के डीन एकेडमिक्स प्रो. अतुल ठाकुर ने बताया कि बीच सेमेस्टर में छात्रों की पढ़ाई का माध्यम नहीं बदला जा सकता। इसलिये अन्य कक्षाएं ऑनलाइन माध्यम से ही संचालित रखने का निर्णय लिया गया है। अभी 450 छात्र कैंपस में रहकर पढ़ाई कर सकेंगे। यह आने वाले समय के लिये एक परीक्षण का दौर भी होगा। अगले तीन महीनों के दौरान आने वाली कठिनाइयों को समझते हुए उनका निराकरण कर पूरी क्षमता के साथ सभी सेमेस्टर की पढ़ाई ऑफलाइन माध्यम से शुरू की जा सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.