इस हेडलाइन के बाद शायद आप भी सोचने लगे होंगे कि क्या शायद ऐसा होता है? आईपीएल के सहारे खिलाड़ी टी 20 या बहुत अच्छा खेला तो वनडे टीम में जगह मिल सके लेकिन टेस्ट टीम के दरवाजे आईपीएल के सहारे कैसे खुलने लगे. लेकिन ये सच है आईपीएल ने इंग्लैंड के विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर की टेस्ट टीम में वापसी करवा दी है वो भी तब जब टीम में जॉनी बेयरस्टो जैसे विकेटकीपर बल्लेबाज शामिल हैं.

आईपीएल को वापसी का श्रेय देते हुए बटलर ने भारत में खेलने उन्हें आत्मविश्वास मिला जिससे वो टेस्ट क्रिकेट में रन बनाने में सफल हुए. बटलर ने पाकिस्तान के खिलाफ लॉडर्स पर पहले टेस्ट में 67 रन बनाए थे जिसके बाद लीड्स में नाबाद 80 रन बनाए. इस पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच भी चुना गया था.’

बटलर का करियर काफी उतार चढाव वाला रहा है. उनके बल्ले से जनवरी 2014 से फर्स्ट क्लास क्रिकेट का एक भी शतक नहीं आया था. ऐसे में सिर्फ आईपीएल के सहारे पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज के लिए चयन चौकाने वाला था.

बटलर ने कहा ,‘‘आईपीएल से मेरा आत्मविश्वास कई गुना बढा.’’ उन्होंने कहा ,‘‘भारत में उस तरह दबाव के हालात में इतने सारे दर्शकों के सामने खेलना. इससे मुझे पता चला कि मैं कहां हूं और कहां जा सकता हूं. इससे मेरा आत्मविश्वास काफी बढा.’’

उन्होंने कहा ,‘‘मेरे लिए सफलता का मूलमंत्र है कि अपने पर दबाव डाले बिना खुलकर खेलो. अब मैं टेस्ट में भी वैसे ही सोचता हूं. बाहरी तत्वों के बारे में नहीं सोचता और पूरा फोकस अपने खेल पर रखता हूं.’’

उन्होंने कहा ,‘‘टी20 में मैच लगातार होते हैं तो आपको पता होता है कि फिर दूसरा मौका मिलने को है. एक नाकामी के बाद फिर आप कामयाब हो सकते हैं. टेस्ट क्रिकेट में ऐसा नहीं होता है, एक बार अगर आप जल्द आउट हो गए तो दूसरा मौका काफी देर बाद मिलता है ऐसे में मेरी सोच अब बदल गई है और चाहता हूं कि अपना विकेट जल्दी न गंवाऊं’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here