झारखंड शिक्षक नियुक्ति घोटाले का बिहार कनेक्शन? भागलपुर पहुंची CBI, टीएमबीयू के करीब 30 शिक्षकों से होगी पूछताछ

जानकारी

झारखंड शिक्षक नियुक्ति घोटाले की जांच के लिए सीबीआई की टीम भागलपुर पहुंची है। सोमवार देर शाम को पहुंची टीम के अधिकारियों ने मंगलवार सुबह तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के गेस्ट हाउस में पूछताछ शुरू की। पहले दिन आठ सेवानिवृत्त व वर्तमान शिक्षकों को पूछताछ के लिए बुलाया गया है। सीबीआई 26 मार्च तक पूछताछ के लिए भागलपुर में रहेगी। इस दौरान करीब 30 शिक्षकों से पूछताछ की जाएगी। उल्लेखनीय है कि झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) ने 2008 में लेक्चरर की नियुक्ति की थी। बाद में इसमें घोटाले की बात सामने आई थी।

पूछताछ के दौरान सीबीआई की टीम ने झारखंड में शिक्षकों की बहाली के समय एक्सपर्ट बनकर गए टीएमबीयू के शिक्षकों के हस्ताक्षर का मिलान व कॉपियों में ओवरराइटिंग से संबंधित जानकारी ली। इस दौरान आंसर शीट से जुड़े कई प्रश्न भी शिक्षकों से पूछे गए। जानकारी हो कि जेपीएससी द्वारा लेक्चरर बहाली प्रक्रिया के दौरान 2008 में झारखंड एलिजिबिलिटी टेस्ट (जेट) परीक्षा का आयोजन किया गया था। इस बहाली प्रक्रिया में बड़े पैमाने पर धांधली की शिकायत आने के बाद सरकार ने इसकी सीबीआई जांच की अनुशंसा की थी।

15 मार्च को सीबीआई ने विवि को भेजी थी सूचना

भागलपुर पहुंची सीबीआई की टीम पांच दिनों में करीब 30 सेवानिवृत्त व वर्तमान शिक्षकों से पूछताछ करेगी। इसके लिए विश्वविद्यालय प्रशासन से सभी का नंबर और पता लेकर सीबीआई ने संबंधित शिक्षकों को सूचित कर दिया था। सीबीआई की टीम ने रजिस्ट्रार को 15 मार्च को भेजे पत्र में 21 से 26 मार्च तक गेस्ट हाउस बुक करने की बात कही थी।

चार सदस्यीय टीम ने शुरू की पूछताछ

सीबीआई के डीएसपी गौरव सिंह व इंस्पेक्टर अशोक कुमार के नेतृत्व में चार सदस्यीय टीम मंगलवार सुबह दस बजे से गेस्ट हाउस में पूछताछ शुरू की। एक शिक्षकों से एक से डेढ़ घंटे तक लंबी पूछताछ हो रही थी। सुबह आठ बजे से ही गेस्ट हाउस पहुंचे टीएमबीयू के शिक्षकों को हॉल में बिठाया गया। शिक्षकों के गले सूख रहे थे। कुछ शिक्षक बाहर निकलकर टिफिन से नाश्ता करते दिखे। शिक्षकों ने कुछ भी बताने से इनकार किया। टीम इससे पहले आठ सितंबर 2017 को भी टीएमबीयू के शिक्षकों से पूछताछ की थी। सेवानिवृत्त शिक्षकों में दिलीप सिंह, बीरेंद्र सिंह, लाल बहादुर सिंह, राजीव सिन्हा और एसएम कॉलेज के वर्तमान प्राचार्य डॉ. रमन सिन्हा से पूछताछ हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.