तो इसलिए जशोदा बेन को बुलाया गया था बिहार…

कही-सुनी

बिहार साहू समाज के निमंत्रण पर भामा साह जयंती में शामिल होने अपने तीन दिवसीय बिहार दौरे पर आईं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पत्नी यशोदाबेन सोमवार को गुजरात लौट गईं. लंगर टोली स्थित साहू भवन में विदाई समारोह का आयोजन किया गया. भामा साह जयंती में इस बार सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पत्नी को ही बुलाया गया.

इसके पीछे का उद्देश्य अप्रत्यक्ष रूप से बिहार में साहू समाज द्वारा अपनी शक्ति का प्रदर्शन माना जा रहा है. हालांकि साहू समाज के उपाध्यक्ष धर्मेंद्र साहू ने शक्ति प्रदर्शन की बात से सीधे तौर पर इनकार किया. लेकिन उन्होंने यह माना है कि यशोदा बेन को बुलाकर समाज को गोलबन्द करने की कोशिश की गई.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में साहू समाज राजनीतिक तौर पर पिछड़ा है, इसलिए निर्णय लिया गया है कि अब समाज द्वारा प्रत्येक वर्ष आयोजित होने वाले भामा साह जयंती पर राष्ट्रीय स्तर के बड़े नेताओं को बुलाया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.