janmashtmi

Janmashtami का व्रत सोमवार को , श्रीकृष्ण जन्म की खुशी में डूब जाएगा सारा शहर

आस्था

भाद्रकृष्ण पक्ष सप्तमी उपरांत अष्टमी तिथि सोमवार 14 अगस्त को श्रीकृष्ण Janmashtami मनाई जाएगी। सोमवार की शाम 5.43 बजे से अष्टमी तिथि आरंभ हो जाएगी।

अष्टमी तिथि की मध्य रात्रि मथुरा नगरी में कृष्णावतार हुआ था। अष्टमी तिथि में ही जन्माष्टमी मनाना शास्त्रसम्मत है। ज्योतिषाचार्य डॉ. राजनाथ झा के अनुसार श्रीकृष्ण जन्माष्टमी जन्म जयंती व्रत 14 अगस्त को होगा।

जबकि श्रीकृष्ण जन्म के बाद जन्मोत्सव 15 अगस्त को मनाया जाएगा। जो गृहस्थ जयंती व्रत करते हैं वे 14 अगस्त को और जो श्रीकृष्ण जन्म के बाद व्रत रखते हैं वे 15 अगस्त को व्रत रखेंगे।




इस बीच श्रीकृष्ण जन्मोत्सव को लेकर शहर में तैयारी तेज हो चली है। पटना जंक्शन स्थित महावीर मंदिर, बांसघाट सिद्धेश्वरी काली मंदिर, पंचरूपी हनुमान मंदिर राजवंशी नगर, नागा बाबा ठाकुरबाड़ी, राधाकृष्ण प्रणामी मंदिर राजापुर पुल समेत शहर के तमाम मंदिरों ठाकुरबाड़ियों पर श्रीकृष्ण Janmashtami को लेकर तैयारियां तेज है। इसके लिए मंदिरों को आकर्षक ढंग से सजाया जा रहा है।

बुद्ध मार्ग स्थित इस्कॉन मंदिर की ओर से 15 अगस्त को श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में भव्य जन्मोत्सव समारोह का आयोजन होगा। वृंदावन से आए कलाकारों की मंडली विशेष अंदाज में श्रीकृष्ण के जीवन पर आधारित प्रसंगों को मंच पर साकार करेंगे। इसके बाद चांदी के 108 कलशों से भगवान का अभिषेक किया जाएगा।




janmashtmi








15 अगस्त को ही महाराणा प्रताप भवन में महाराणा प्रताप ट्रस्ट की ओर से भव्य जन्माष्टमी उत्सव मनेगा। एक बजे दिन से भजन-कीर्तन होगा और तीन बजे मटकी फोड़ प्रतियोगिता। फिर शाम 5 बजे से भगवान को छप्पन भोग अर्पित किया जाएगा। यह जानकारी ट्रस्ट के अध्यक्ष नवल भगत महावीर मोदी ने दी।

यारपुर स्थित गौड़िया मठ में 14 अगस्त को श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का आयोजन होगा। 19 अगस्त को नंदोत्सव के दौरान पूजा, भोग रात्रि होगी। दोपहर 1 बजे तक महाप्रसाद का वितरण होगा। गौड़ीय मिशन के सभापति एवं आचार्य ऊं विष्णुपाद परमहंस 108 श्रीमद्भक्तिसुह्द परिव्राजक महाराज के सानिध्य में जन्माष्टमी पर संकीर्तन होगा।








SONY DSC














Leave a Reply

Your email address will not be published.