दरभंगा का ये बेटा है बॉलीवुड के एकलौते शू डिज़ाइनर, गाँव में एक ट्यूशन इंस्टिट्यूट खोलना चाहते हैं

कही-सुनी

पूरी दुनिया जिन फिल्मी सितारों की दीवानी है, वो हैं दरभंगा के इस युवक के दीवाने। जी हाँ, रणवीर सिंह, रणबीर कपूर, ऋतिक रौशन, शहीद कपूर, करीना, कटरीना और आलिया समेत बॉलीवुड के बेहतरीन अदाकार और डांसर्स के दीवाने तो लाखों हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये सभी सितारे डांस करते वक्त किसके बनाये जूते पहनते हैं?

यह जानकर सभी बिहारवासियों को हैरानी के साथ ख़ुशी भी होगी कि ये सभी सेलिब्रिटीज दरभंगा के जमील शाह के द्वारा डिजाईन किये गए और बनाए गए जूते पहनते हैं।

जमील बॉलीवुड के सभी बड़े सितारों के लिए जूते डिजाईन करने और बनाने वाले जमील शाह का नाम हर फिल्मी सितारे की ज़ुबान पर रहता है। डांस को जेहन में रखकर जूतों को बनाने वाले जमील बॉलीवुड के एकलौते शू डिज़ाइनर हैं जो डांस की बारीकियों को ध्यान में रखकर जूते डिजाईन करते हैं। जूते की डिमांड आने पर जमील पहले बॉलीवुड स्टार से मिलकर उनसे डांस की पूरी जानकारी लेते हैं। फिर हर गाने और डांस के हिसाब से अलग-अलग जूते डिजाईन करते हैं।

आज जमील का नाम डांसिंग शूज की दुनिया में बहुत बड़ा है, लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब जमील को कई दिनों तक भूखा रहना पड़ता था। किसान पिता के पुत्र जमील दरभंगा जिला के दोघरा गाँव के रहने वाले हैं। जमील के पिता खेती खेती के साथ टूशन भी पढ़ाते हैं।

बचपन में घरवालों से किसी बात पर अनबन हुई तो जमील घर छोड़ कर दिल्ली चले गए और उसके बाद वहां से मुंबई गए। डांस के शौक़ीन जमील मुंबई में जूते बनाने के साथ ही डांस भी सीखने लगे। एक बार संदीप से डांस सीखने के दौरान जमील को पता चला की इंडिया में डांसिंग शूज नहीं बनाया जाता है और बॉलीवुड के सभी सितारे के लिए विदेशों से डांसिंग शूज मंगवाया जाता है। फिर क्या था, जमील को डांसिंग शूज की दुनिया में खुद को साबित करने का मौका नज़र आया। संदीप के कहे अनुसार उसने जूते बनाए लेकिन संदीप को जूते पसंद नहीं आये। 14वीं बार जब जमील ने फिर से डांसिंग शूज बनाया तो संदीप को जूता पसंद आया।

शाह शूज के नाम से जूते डिजाईन करने वाले जमील ने बताया कि कनाडा के वैंकुवर में जो टोएफा अवार्ड समारोह हुआ था उसमे कटरीना और करीना ने इनके बनाए जूते ही पहने थे। रणवीर के लिए शूज बनाने के लिए जमील को खासतौर पर दिल्ली बुलाया गया था।

अपने काम में व्यस्त रहने के बाद भी जमील अपने गाँव जाना नहीं भूलते हैं। जमील गाँव में एक ट्यूशन इंस्टिट्यूट खोलना चाहते हैं और जिसका उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से करवाना चाहते हैं। जमील के फर्श से अर्स तक पहुँचने की कहानी युवाओं के लिए एक मिसाल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.