आईटीआई परीक्षा: 100 प्रश्नों की जगह ओएमआर सीट पर 60 प्रश्न, एग्जाम रद्द

जानकारी

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति पटना की बड़ी खामियां के कारण सैकड़ों परीक्षार्थीयों को बिना परीक्षा दिये बैरंग घर लौटना पड़ा। मंगलवार को कोसी प्रमंडल के सहरसा, मधेपुरा व सुपौल जिले के आईटीआई पास छात्र छात्राओं की औधोगिकी प्रशिक्षण उच्च स्तरीय भाषा की परीक्षा होनी थी। लेकिन ओएमआर सीट पर 100 प्रश्न की जगह मात्र 60 प्रश्न ही दिये गये थे। इस वजह से परीक्षा को रद्द करना पड़ा। सौ प्रश्न के लिए सौ अंक निर्धारित है। डीईओ जयशंकर ठाकुर ने बताया कि ओएमआर सीट में 100 प्रश्न की जगह 1 से 60 ही प्रश्न थे। बोर्ड को जानकारी दी गई। बोर्ड द्वारा परीक्षा रद्द कर दी गई है।

तीनों जिले के 256 परीक्षार्थी को दोनों पालियों में हिंदी व अंग्रेजी विषय की परीक्षा देनी थी। प्रथम पाली में हिंदी व दूसरी पाली में अंग्रेजी विषय की परीक्षा होनी थी। इन्टर समकक्ष योग्यता के लिए आईटीआई पास छात्रों को हिंदी व अंग्रेजी में पास होना जरूरी है। दोनों भाषा में एक सौ प्रश्न का छात्रों को जबाव देना था। परीक्षा को लेकर तीनों जिले के परीक्षार्थी सुबह सबेरे ही परीक्षा केंद्र पर पहुंच गए थे। प्रथम पाली के हिन्दी विषय में 174 पुरुष व 64 महिला सहित कुल 238 परीक्षार्थी परीक्षा हाल में परीक्षा देने बैठ गये। जब प्रश्न पत्र दिया जाने लगा तो ओएमआर सीट पर मात्र 60 प्रश्न देख परीक्षार्थियों ने पूछताछ शुरू कर दी। जिसके बाद शिक्षा विभाग में हलचल मच गई। फिर डीईओ द्वारा बिहार विद्यालय परीक्षा समिति को इस बाबत जानकारी देते मार्गदर्शन मांगा गया। परीक्षा शुरू होने के आधे घंटे में ही बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने डीईओ को पत्र भेजकर परीक्षा रद्द करने की घोषणा कर दी। परीक्षा रद्द की घोषणा होते ही हॉल में बैठे सभी परीक्षार्थियों को बाहर निकलना पड़ गया।

परीक्षार्थियों में दिखा आक्रोश : ठंड में सुबह सबेरे मधेपुरा व सुपौल जिले से पहुंचे परीक्षार्थियों में परीक्षा रद्द होने पर आक्रोश दिखा। परीक्षार्थी सुबह ही परीक्षा देने परीक्षा देने केन्द्र पर पहुंच गये थे। परीक्षा हॉल में भी बैठ गये और ऐन वक्त पर परीक्षा रद्द की घोषणा हो गई। कई परीक्षार्थी ने बोर्ड की इस खामियों पर काफी आक्रोश जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.