IRCTC घोटाले में CBI की बेल कैंसिल याचिका पर बोले तेजस्वी, 2024 से डर रही है बीजेपी

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने सोमवार को आइआरसीटीसी से जुडे मामले में सीबीआई द्वारा जमानत रद्द कराने की याचिका को लेकर प्रतिक्रिया दी। कहा कि भाजपा को 2024 के लोकसभा चुनाव का डर सता रहा है।

उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि मैंने सीबीआई को जांच में पूरा सहयोग किया। जहां कहीं भी जरूरत पड़ी सीबीआई के सामने वे मौजूद रहे। उन्होंने यहां तक कहा कि सीबीआई को अगर ज्यादा परेशानी हो रही है और बार-बार छापेमारी करनी पड़ रही है तो वह आकर उनके घर में कार्यालय खोल ले।

तेजस्वी यादव ने कहा कि दरअसल पूरा खेल 2024 के लोकसभा चुनाव से जुड़ा हुआ है। भाजपा को डर सता रहा है कि 2024 में वहीं हो जाएगा जो अभी बिहार में हुआ है। उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में लाखों नौकरियां निकलने वाली है, युवाओं को रोजगार मिलने वाला है। सरकार ने नीति तय कर ली है। उसे लेकर भी भाजपा दहशत में है और किसी तरह रोजगार जैसे मुद्दे को भाजपा किनारे करवाना चाहती है। भाजपा के नेता इसलिए अनाप-शनाप बयान दे रहे हैं।

उपमुख्यमंत्री ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बिहार दौरे को लेकर कहा कि चुनाव तो आते रहेंगे लेकिन बिहार को विशेष राज्य का दर्जा कब देंगे यह तो बताइए।

क्या है आईआरसीटीसी घोटाला

लालू प्रसाद यादव वर्ष 2004 से 2009 के बीच जब रेल मंत्री थे उस दौरान आईआरसीटीसी के रांची और पुरी स्थित दो होटलों को लीज पर निजी कंपनी सुजाता होटल प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया। आरोप है कि होटलों को लीज पर दिए जाने के बदले पटना के बेली रोड स्थित करीब तीन एकड़ का कीमती भूखंड लालू परिवार को मिला। पहले यह जमीन डिलाइट कंपनी को दी गई और उसके बाद इसे राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव की स्वामित्व वाली लारा प्रोजेक्ट कंपनी प्राइवेट लिमिटेड को बेंच दी गई। आरोप है कि रेलवे के होटलों को लीज पर देने के एवज में डिलाइट कंपनी को बेशकीमती जमीन दी गई और बाद में उक्त कंपनी से लारा कंपनी ने काफी कम कीमत में जमीन खरीद ली। डिलाइट कंपनी राजद के कद्दावर नेता प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता की है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.