पटना यूनिवर्सिटी में चाहिए हॉस्टल तो पहले देना होगा इंटरव्यू, 4 सितंबर को जारी होगी अधिसूचना

खबरें बिहार की

पटना यूनिवर्सिटी में कभी छात्रों का हंगामा तो कभी बमबाजी के बाद पीयू प्रशासन सतर्क हो गया है. अब छात्रों को यूं हीं हॉस्टल नहीं मिल जाएगा. पटना यूनिवर्सिटी में अगर स्टूडेंट्स हॉस्टल में रहना चाहते हैं तो पहले उन्हें इंटरव्यू देना होगा. पीयू कमिटी के सामने छात्रों को पेश होना होगा. जहां सवाल जवाब के बाद कमिटी यह निर्णय करेगी कि छात्र हॉस्टल में रहने के काबिल है या नहीं. अब यूनिवर्सिटी हॉस्टल में रहने के लिए इच्छुक सभी छात्रों को इस फेज से गुजरना ही होगा. बता दें कि इस संबंध में 4 सितंबर को अधिसूचना जारी कर दी जायेगी.

हालांकि यह इंटरव्यू फॉर्मल ही होगा. पीयू इसके लिए एक कमेटी बनाएगा. इस कमेटी को ही हॉस्टल आवंटन की जिम्मेदारी दी जाएगी. यह कमिटी तय करेगी कि छात्र को हॉस्टल में रहना चाहिए की नहीं ? कमेटी में कॉलेज के साथ ही विवि के प्रतिनिधि शामिल रहेंगे. इंटरव्यू में हॉस्टल के लिए इच्छुक छात्र से सवाल-जवाब किया जाएगा. जिसके बाद कमेटी अंतिम निर्णय लेगी.
हॉस्टल अलॉटमेंट के लिए इंटरव्यू प्रक्रिया के पीछे की वजह के बारे में जब यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट वेलफेयर डीन प्रो एनके झा से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि इसके पीछे का उद्देश्य सिर्फ इतना है कि जो भी छात्र हॉस्टल में रहेंगे उसके बारे में कमेटी को पूरी जानकारी रहे. 4 सितंबर को हॉस्टल आवंटन के लिए अधिसूचना जारी कर दी जायेगी. साथ ही इंटरव्यू के जरिये यह भी तय किया जाएगा कि स्टूडेंट प्रतिभाशाली या मेधावी हैं या नहीं. जो ज्यादा इंटेलीजेंट होंगे मेरिट लिस्ट में उनका ही नाम ऊपर होगा.

स्टूडेंट वेलफेयर के डीन ने आगे कहा कि दूर-दराज छात्रों को इसमें प्राथमिकता दी जाएगी. आर्थिक मापदंड को भी ध्यान में रखा जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि यूजी-पीजी के सभी हॉस्टल अलॉट किया जाएगा. जो हॉस्टल बंद पड़े हैं उन्हें भी शुरू किया जाएगा. और इंटरव्यू के आधार पर छात्रों को हॉस्टल आवंटन कर दिया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *