महाराष्ट्र सरकार ने तीन चीनी कंपनियों समेत विभिन्न देशों के 12 कंपनियों के साथ 16,000 करोड़ रुपए के मोमेरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (MoU) पर हस्ताक्षर किए हैं. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि तीन चीनी कंपनियों का सामूहिक रूप से निवेश 5,000 करोड़ रुपए से अधिक है. लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प से पहले ‘मैग्नेटिक महाराष्ट्र 2.0’  (Magnetic Maharashtra 2.0) के तहत एमओयू पर सोमवार को हस्ताक्षर किए गए थे. बता दें कि एलएसी (LAC) पर गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 जवान शहीद हो गए.

बयान में कहा गया है कि तीनों चीनी कंपनियां- हेंगली इंजीनियरिंग (Hengli Engineering), पीएमआई इलेक्ट्रो मोबिलिटी सॉल्यूशंस जेवी विद फोटॉन (PMI Electro Mobility Solutions JV with Photon) और ग्रेट वॉल मोटर्स (Great Wall Motors) पुणे जिले के तालेगांव में निवेश करेंगी. बयान में कहा गया है कि हेंगली इंजीनियरिंग 250 करोड़ रुपए और ऑटो सेक्टर में PMI 1,000 करोड़ रुपए निवेश करेगा. वहीं ग्रेट वॉल मोटर्स 3,770 करोड़ रुपए के निवेश से एक ऑटोमोबाइल कंपनी स्थापित करेगी.
अमेरिका, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर आदि देशों की कंपनियों साथ यह करार किए गए हैं. उन्होंने कहा कि ये कंपनियां ऑटोमोबाइल, लॉजिस्टिक्स, बैंकिंग, इंजीनियरिंग और मोबाइल उत्पादन जैसे विविध क्षेत्रों से हैं.

ये कंपनियां करेगी निवेश
>> एक्सॉन मोबिल (अमेरिका) ऑइल एंड गॅस- इसाम्बे, रायगड 760 करोड़ रुपए
>> हेंगली (चीन) इंजिनिअरिंग- तलेगाँव चरण क्रमांक-2, पुणे 250 करोड़ रुपए
>> सेंडास (सिंगापुर) लॉजिस्टिक- चाकण-, तलेगांव, पुणे, भिवंडी, ठाणे 560 करोड़ रुपए
सेंटर- टीटीसी, ठाणे- महापे 1100 करोड़ रुपए
>> इस्टेक (दक्षिण कोरिया) इलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टीम डिजाईन – रांजणगाव, पुणे 120 करोड़ रुपए
>> पीएमआय इलेक्ट्रो मोबिलिटी सोल्यूशन जेवी विथ फोटोन (चीन) ऑटो-तलेगांव 1000 करोड़ रुपए
>> रैकबैंक (सिंगापुर) डेटा सेंटर- ठाणे, हिंजेवाडी, पुणे 1500 करोड़ रुपए
>> ग्रेट वॉल मोटर्स (चीन) ऑटो मोबाईल तलेगांव – पुणे 3770 करोड़ रुपए

Sources:-News18

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here