Rakhi

चाइनीज Rakhi की बिक्री पर भारतीय व्यापारियों ने लगाई रोक, चीन को 800 करोड़ का नुकसान

राष्ट्रीय खबरें
Rakhi का त्योहार इस बार 7 अगस्त को है

चीन के साथ डोकलाम विवाद का असर अब बाजार पर भी दिखने लगा है। Rakhi का सामान बेचने वाले व्यापारियों का कहना है कि मार्केट में चीन के उत्पादों की मांग में भारी कमी देखने को मिल रही है।

कई जगह चीनी Rakhi पर व्यापारियों ने ही रोक लगा रखी है। इस बार चीनी राखियों के भारत में ना बिकने से चीन को करीब 800 करोड़ का नुकसान होगा। व्यापारियों का मानना है कि शायद जनभावना के कारण या फिर देशभक्ति की वजह से चीनी राखियां इस साल बाजार से गायब हैं। भारत में बनी राखियों से बाजार सजा हुआ है और उनकी ही अच्छी बिक्री भी हो रही है।

Rakhiरक्षाबंधन इस साल 7 अगस्त को है। सोशलमीडिया पर चीन के उत्पादों के बहिष्कार की मुहिम चल रही है और इसका बड़ा असर देखने को मिल रहा है। Rakhi के सामान में चीन के उत्पाद नदारद नजर आ रहे हैं। शाहगंज के Rakhi विक्रेता मुकेश ललवानी कहते हैं, ‘इस साल खुद रक्षाबंधन के सामानों की बिक्री करने वाले दुकानदारों ने बड़ी संख्या में चीन के उत्पादों के बहिष्कार का फैसला किया है। चीन हमारे पैसों का प्रयोग हमें ही धमकाने के लिए कर रहा है। हम उन्हें पैसे कमाने का मौका क्यों दें?’




ललवानी ने बताया, ‘इस बार हमारे पास सिर्फ भारत में बनी राखियां ही हैं। ग्राहक भी उनकी ही डिमांड करते हैं। यह सही है कि भारत में बने उत्पादों की लागत अधिक होने के कारण उन पर कम मुनाफा मिलता है, लेकिन फिर हम सोचते हैं कि हिंदुस्तानी उत्पादों को बेचने पर पैसा देश में ही रहेगा।’

कुछ इसी तरह की भावना ग्राहकों की भी है। सुनीता सिंह कहती हैं, ‘सोशल मीडिया और वॉट्सऐप ग्रुप में भी चीनी उत्पादों के बहिष्कार के मेसेज मिलते हैं। मैंने फैसला किया है कि हम किसी तरह के चीनी उत्पादों का प्रयोग नहीं करेंगे।’


Leave a Reply

Your email address will not be published.