पिता की भूमिका में CM बोले- जब बेटियां ही नहीं होगी, तो दुल्हन कहां से लाओगे

खबरें बिहार की

पटना: मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियां हमारी शान हैं। उनके विकास के लिए बिहार सरकार हर स्तर पर काम कर रही है। बेटियों को आगे बढ़ाने के लिए नौकरियों में 35 फीसदी का आरक्षण दिया गया है। जबकि राजनीतिक प्रतिनिधित्व में 50 फीसदी का आरक्षण मिल चुका है।

पहले लोग बेटियों को पढ़ाना नहीं चाहते थे। अब समय बदल गया है। सीएम ने युवाओं पर तंज कसते हुए कहा कि जब बेटियां ही नहीं होगी, तो दुल्हन कहां से लाओगे…। बेटी ही मां हैं, बहन हैं और पत्नी भी। हर रिश्ते को बेटियां बखूबी निभाती हैं। बेटियों के उत्थान व शिक्षा का जिम्मा सरकार ने लिया है। उनके जन्म से लेकर स्नातक करने तक कई माध्यमों से बिहार सरकार 54 हजार 100 रुपए की मदद करती है।

दहेजबंदी व बाल विवाह के खात्मे के लिए भी सरकार ने पहल कर दी है। महिला सशक्तीकरण के बिना समाज या देश आगे नहीं बढ़ सकता है। हम आपको बता दें कि सीएम अपने गृह जिला नालंदा में कल बाबा महतो साहब महोत्सव में पहुंचे।

नालंदा के सरमेरा प्रखंड के गोपालबाद परणावां में सोमवार को बाबा महतो साहब महोत्सव के उद्घाटन के मौके पर ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि परणावां की धरती पर उनका यह पहला आगमन नहीं है। यहां कई बार वे आ चुके हैं, लेकिन महोत्सव में उनका यहां आना गौरव की बात है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.