इन चीजों के बिना अधूरी है करवा चौथ की पूजा की थाली, आप भी याद से रख लें

आस्था जानकारी

सुहागिन महिलाओं के लिए करवा चौथ के व्रत के अलग ही मायने होते हैं। यह व्रत हर शादीशुदा महिला के लिए खास महत्व रखता है। करवा चौथ के दिन भगवान शिव और पार्वती की विशेष उपासना की जाती है। शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए निर्जला व्रत करती हैं और रात का चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद अपना व्रत खोलती हैं। इस साल करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर 2022, गुरुवार को है। ऐसे में आइए जानते हैं करवा चौथ की थाली में किन चीजों को जरूर शामिल करना चाहिए।

सुहाग का सामान-

करवा चौथ के दिन सुहागिन महिलाएं न सिर्फ खुद 16 श्रृंगार करती हैं बल्कि पूजा की थाली में भी माता पार्वती को अर्पित करने के लिए श्रृंगार का सामान रखती हैं। इसके बाद यह सामान घर में किसी सुहागिन महिला को दे दिया जाता है।

मिट्टी का करवा-
करवा चौथ के दिन मिट्टी का करवा पूजा की थाली में सबसे जरूरी और शुभ चीज होती है। इसे पूजा की थाली में शामिल करना न भूलें। आजकल बाजार में करवे के भी कई डिजाइन मौजूद हैं।

छलनी-
चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद छलनी में चंद्रमा और पति का चेहरा देखा जाता है। इसलिए करवा चौथ की थाली में इसे भी जरूर जगह दें।

आटे का दीपक-


पूजा के लिए आटे के दीपक को शुभ माना जाता है और करवा चौथ की थाली में आटे का दीपक जरूर रखें। दीपक में सरसों के तेल में रुई की बत्ती डालें।

कुमकुम-
मान्यता है कि पूजा के बाद इसी कुमकुम से मांग भरने से सुहाग की लंबी आयु की कामना पूर्ण होती हैं, इसलिए करवा चौथ की थाली में कुमकुम रखना बेहद जरूरी होता है।

मिठाई और चावल-
करवा चौथ की पूजा में मिठाई और चावल अर्पित किए जाते हैं। सफेद दूध से बनी मिठाई के साथ पूजा की थाली में रोली और चावल भी जरूर रखें।

तांबे का लोटा और गिलास-
चंद्रमा को अर्घ्य देने के लिए करवा चौथ की थाली में पानी से भरा तांबे का लोटा और एक पानी का गिलास भी रखना चाहिए। इसी पानी के गिलास से व्रत खोला जाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.