भैया दूज में भाई को इस शुभ मुहूर्त में लगाएं तिलक

कही-सुनी

पटना:  भाई-बहन के स्नेह और प्रेम का प्रतीक आज भाई दूज का पर्व है। दीपावली के अंतिम दिन कार्तिक शुक्ल द्वितीया तिथि को भाई दूज का पर्व मनाने की परंपरा होती है। पर्व के दिन बहनें भाइयों के माथे पर तिलक लगाती हैं और भगवान से भाइयों की लंबी आयु की कामना करती हैं।

इस पर्व को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि एक बार यमराज के पास उनकी बहन यमुना का संदेश आया तो यमराज सब कुछ छोड़कर उनसे मिलने पहुंच गए और इसी तरह से यम द्वितीया का त्योहार शुरू हुआ।

टीका का शुभ मुहूर्त :

अगर भाई को टीका शुभ मुहूर्त में करेंगे तो इस दिन की पूजा जरुर सफल होगी। इस दिन शुभ मुहूर्त है 1 बजकर 31 मिनट से शुरु होकर 3 बजकर 36 मिनट तक रहेगा।

दोपहर 1:19 से 3:36 तक।द्वितीय तिथि प्रारम्भ : 21 अक्टूबर 2017 को 01:37 बजे।

ऐसे करें पूजा :

भैया दूज के दिन बहनें आसन पर चावल के घोल से चौक बनाएं।रोली, चांडाल, चावल, घी का दिया, मिष्ठान से थाल सजाएं।कद्दू के फूल, सुपारी, मुद्रा हाथों पर रख कर धीरे-धीरे हाथों पर पानी छोड़ें।भाई के माथे पर तिलक लगाएं।भाई, बहन के लिए कुछ उपहार दें।भाई की लंबी उम्र की कामना करें।इसके बाद बहन भाई के मस्तक पर तिलक लगाकर कलावा बांधे।भाई के मुंह में मिठाई, मिश्री और माखन लगाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.