एक्शन में चिराग पासवान, चाचा और भाई के साथ 5 सांसदों को दिखाया पार्टी से बाहर का रास्ता

राजनीति

Patna:  बिहार के सियासी घमासान के बीच इस वक्त का सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है. LJP और परिवार में कलह के बीच चिराग पासवान ने मंगलवार को अपने चाचा पशुपति कुमार पारस और भाई प्रिंस राज समेत पांचों सांसदों को दल से निकाल दिया है. शाम चार बजे अपने आवास पर पार्टी के भरोसेमंद लोगों के साथ बैठक के बाद चिराग पासवान ने यह निर्णय लिया है.

लोकसभा सांसद चिराग पासवान ने एलजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दौरान इसकी घोषणा की है. उन्होंने बागी 5 सांसदों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया है. आपको बता दें कि इन पांचों सांसदों के खिलाफ पार्टी के विरोध में कार्यवाही करने के आरोप में उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया गया है.

इसके बाद उन्होंने पार्टी अध्यक्ष पद पर अपना दावा पेश किया. इसके साथ ही उन्होंने साफ कहा कि उनका बिहार फर्स्ट-बिहारी फर्स्ट कार्यक्रम चलता रहेगा और बिहार सरकार के खिलाफ वह अपने आंदोलन को चलाते रहेंगे. आपको बता दें कि इससे पहले पारस गुट की ओर से भी एक राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक की गई जिसमें सुरजभान सिंह को कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया है. ऐसे में अब यह लड़ाई शुरू हो गया है कि पार्टी किसकी है. पारस की या फिर चिराग की.

बताते चलें कि चिराग की तरफ से पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारणी की वर्चुअल बैठक की गयी. बैठक में पारस की ओर से लिए गये निर्णय को पार्टी संविधान के खिलाफ बताया गया. गौरतलब है कि सुलह-समझौते की सारी कोशिशों के विफल होने के बाद भी चिराग ने हार नहीं मानी है. वह हर हाल में पार्टी पर अपना कंट्रोल बनाए रखना चाहते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *