बिना मास्क घूमते मिले तो देना होगा जुर्माना, जानें इन जगहों पर अभियान चलाकर लोगों को पकड़ेगी टीम

खबरें बिहार की

पटना: बिहार में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए अब मास्क अनिवार्य कर दिया गया है. इतना ही नहीं अगर बिना मास्क सड़क पर घूमते पकड़े गये तो जुर्माना भी देना होगा. बिहार की राजधानी पटना में प्रमंडलीय आयुक्त संजय अग्रवाल की बैठक में जिलाधिकारी को निर्देश दिये गये हैं. जिसके बाद जिला अधिकारी डॉ चंद्रशेखर सिंह ने टीम गठित कर चेकिंग अभियान चलाने का आदेश जारी कर दिया है.

डीएम ने लोगों को मास्क का प्रयोग करने, सेनिटाइजर का नियमित उपयोग करने, सामाजिक दूरी का पालन करने की अपील की है. अधिकारियों के मुताबिक मास्क अभियान में शामिल टीम का विशेष ध्यान शहर की दवा मंडी गोविंद मित्रा, गांधी मैदान, कंकड़बाग, राजाबाजार, पाटलिपुत्र गोलंबर, इन्कम टैक्स, डाकबंगला चौराहा समेत प्रमुख जगहों से आने-जाने वाले लोगों पर रहेगा.

महाराष्ट्र, दिल्ली, गुजरात समेत सात राज्यों से पटना आने वाले लोगों को अब होम काेरेंटिन किया जायेगा. एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर जांच बूथ बनाये गये हैं, जहां जांच भी शुरू कर दी गयी है. तीनों जगहों से यात्रियों की सूची मंगायी जा रही है. फोन कर लोगों को 10 दिन होम कोरेंटिन होने की सलाह दी जा रही है. जिनके घर कोरेंटिन होने की व्यवस्था नहीं है, उनके लिए होटल पाटलिपुत्र अशोक में आइसोलेशन कम कोरेंटिन सेंटर की व्यवस्था है. पॉजिटिव आने वालों के संपर्क में रहने वाले 25 लोगों की जांच का भी निर्देश स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी कर दिया गया है.

अभी बाहर से आये लोगों में नहीं मिला है कोरोना

मुंबई, दिल्ली, छत्तीसगढ़, पंजाब, केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु से आने वालों की सघन निगरानी की जा रही है. जिले के बड़े रेलवे स्टेशनों एयरपोर्ट और बस स्टैंड पर जांच बूथ बना दिये गये हैं. 10 प्रतिशत यात्रियों की एंटीजन से कोरोना जांच की जा रही है और आरटीपीसीआर जांच के लिए नमूने लिये जा रहे हैं. फिलहाल अभी तक बाहर से आये लोगों में कोरोना की पुष्टि नहीं हुई है. इससे स्वास्थ्य विभाग ने राहत की सांस ली है.

मंगायी जा रही यात्रियों की सूची

रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट व बस स्टेशन से यात्रियों की रोज सूची मंगायी जा रही है. उन्हें कंट्रोल रूम से 10 दिन तक होम कोरेंटिन रहने का सुझाव दिया जा रहा है. तीन शिफ्टों में तीन डॉक्टर, फार्मासिस्ट व करीब पांच सीनियर व जूनियर डॉक्टर, नर्स आदि की ड्यूटी लगायी गयी है. वहीं, सिविल सर्जन डॉ विभा कुमारी ने बताया कि जिन प्रदेशों में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है, वहां से आने वालों को होम कोरेंटिन करने का निर्देश जारी किया गया है. सभी स्वास्थ्य केंद्रों को निर्देशित कर दिया गया है कि जो भी संक्रमित मिलें, उसके संपर्क में आने वाले करीब 20 से 25 लोगों की जांच करायी जाये. जिनमें लक्षण दिखें, उनकी आरटीपीसीआर जांच से भी नमूने लिये जाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *