IAS-IPS के तबादले के बाद BPSC अधिकारियों पर सरकार की नजर

खबरें बिहार की
सरकार ने दो दर्जन से ज्यादा IAS और 44 IPS  अधिकारियों को इधर से उधर कर दिया।

IAS और IPS के इस तबादले के बाद सरकार की नज़र अब बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों पर है। सुत्रों के मुताबिक सरकार उनके तबादले की कवायद में जुट गई है जिसके तहत उन अधिकारियों की लिस्ट तैयार की जा रही है जो मौजुदा सरकार के विश्वस्त हैं।

राजतंत्र हो या लोकतंत्र निज़ाम बदलता है तो सबसे पहले उसके मातहत काम करने वाले प्रशासनिक अधिकारियों के चेहरे बदल जाते हैं क्योंकि निजाम फैसले को अमलीजामा का पहनाना का जिम्मा इन्हीं अधिकारियों के कंधे पर होता है।

बिहार में भी कुछ दिन पहले ऐसा हीं हुआ। महागठबंधन में टूट के बाद जदयू ने जैसे हीं एनडीए का दामन थामा तो सबसे पहले पुलिस और प्रशासनिक महकमे में भारी उच्चस्तरीय फेर-बदल हुई।




सरकार ने 44 IPS और दो दर्जन से ज्यादा IAS अधिकारियों को इधर से उधर कर दिया। सरकार के इस कदम से जहां कई अधिकारियों के चेहरे खिल उठे तो कइयों पर मायुसी छा गई। ये बात अलग है कि यहां निज़ाम नहीं बदला पर सत्ता का समिकरण और मिजाज बदला तो ऐसा करना जरुरी हो गया, क्योंकि तबादले के गर्भ में बहुत कुछ छुपा है।

खैर तबादले की ये ख़बर अब पुरानी हो गई। लगभग सभी अधिकारियों ने अब अपनी-अपनी कमान संभाल ली है। लेकिन इस बिच अंदरखाने से जो संकेत मिल रहे वो बिल्कुल नए है।




दरअसल IAS और IPS के इस तबादले के बाद सरकार की नज़र अब बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों पर है। सुत्रों के मुताबिक सरकार उनके तबादले की कवायद में जुट गई है जिसके तहत उन अधिकारियों की लिस्ट तैयार की जा रही है जो मौजुदा सरकार के विश्वस्त हैं।




तबादले का ये नोटीफिकेशन कभी भी जारी हो सकता है। बता दें अभी कुछ महिने पहले हीं ग्रामिण कार्य विभाग द्वारा 137 प्रखंड विकास पदाधिकारियों का तबादला किया गया था।



Leave a Reply

Your email address will not be published.