कड़ी मेहनत से बन गईं IAS , फिर भी अपनी परम्परागत पहनावे के लिए हैं प्रसिद्ध : संस्कृति

कही-सुनी

Patna: राजस्थान की पारंपरिक वेशभूषा में, माथे पर बिंदी लगाए, गोद में एक नवजात शिशु लिए.. एक खूबसूरत सी महिला की तस्वीर इन दिनों सोशल मीडिया पर सुर्खियों में है। आम सी लगनी वाली यह तस्वीर गांव के किसी महिला की नहीं बल्कि आईएएस ऑफिसर की है जो इसे विशेष बना रही है। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि बड़े पद पर पहुंचने के बाद आधुनिकता की रेस में भागते हुए लोग सबसे पहले अपने पारंपरिक वेशभूषा से दरकिनार करते हैं। लेकिन इस तस्वीर में दिख रही महिला ने आईएएस ऑफिसर बनने के बाद भी ख़ुद को ग्रामीण परंपराओं से जोड़े रखा है। यह तस्वीर “आईएएस ऑफिस मोनिका यादव” की है जो 2014 बैच की PPS ऑफिसर हैं। यह तस्वीर ग्रामीण संस्कृति के प्रति उनके प्रेम को दिखा रहा है।

मोनिका का जन्म राजस्थान के सीकर जिले के श्रीमाधोपुर तहसील के गांव लिसाड़िया में हुआ। इनका लालन-पालन ग्रामीण परिवेश में ही हुआ। इनके पिता हरफूल सिंह यादव सीनियर आरएएस है। अपने पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए मोनिका ने संघ लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित सिविल सेवा परीक्षा में 403वीं रैंक हासिल की। इन्होंने पहले ही प्रयास में यह सफलता हासिल की है।

तिर्वा क्षेत्र की डीएसपी मोनिका यादव अपने क्षेत्र के लोगों की शिकायतों को निर्धारित समय पर निपटाने के लिए जानी जाती हैं। लोगों की समस्या सुनने और फटाफट निवारण निकालने के लिए सीओ मोनिका यादव को प्रदेश में प्रथम स्थान मिला है।

मोनिका की शादी आईएएस सुशील यादव से हुई जो फिलहाल राजसमंद में बतौर एसडीएम कार्यरत हैं। वायरल हुई यह तस्वीर उस वक़्त की है जब इन्होंने बेटी को जन्म दिया था। बेटी के जन्म के बाद देश के लिए अपनी ड्यूटी निभाने वाली एक आईएएस अधिकारी ने जब अपनी परंपरा को निभाया तो वह लोगों को काफ़ी पसंद आया।

ग्रामीण परिवेश में पली-बढ़ी मोनिका अफसर बनने के बाद अपनी परम्पराओं से ख़ुद को दूर नहीं होने दिया। मोनिका की इस वायरल तस्वीर के साथ कैप्शन लिखा है, ‘आईएएस मोनिका यादव गांव लिसाड़िया श्रीमाधोपुर की लाडली। सादगी भरा चित्र पहली बार किसी आईएएस का। जय हिंद जय भारत।’ यूजर्स इन्हें बेटी के जन्म पर बधाइयां भी दे रहे हैं।

Source: The Logically

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *