पूजा पाठ में हनुमान चालीसा का बहुत ही महत्व है. हनुमान चालीसा के सरल शब्दों से राम भक्त हनुमान जी को बहुत जल्दी प्रसन्न कर सकते हैं. हनुमान चालीसा के द्वारा मुश्किल काम को आसान किया जा सकता है और हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है. हनुमान चालीसा की 40 पंक्तियां हमारे किसी भी काम को सिद्ध कर सकती हैं. हनुमान जी को कभी भी हार का सामना नहीं करना पड़ा, इसलिए हनुमान चालीसा का पाठ श्रद्धा पूर्वक करके कोई भी व्यक्ति हनुमान जी की कृपा आसानी से प्राप्त कर लेता है. इसलिए हनुमान चालीसा का  पूजा पाठ में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है.

हनुमान चालीसा के पाठ को कैसे विधि पूर्वक किया जाए-

– सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और साफ वस्त्र पहन लें.

– अपना मुंह पूर्व दिशा में या दक्षिण दिशा में रखकर लाल आसन पर बैठें.

– हनुमान जी की फोटो को पूर्व या दक्षिण दिशा में लाल वस्त्र बिछाकर रखें.

– गाय के घी या तिल के तेल का दिया जलाएं और एक लोटे में जल भरकर रखें और हनुमान जी के सामने 3 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें.

– गुड़ या बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं.

– ऐसा लगातार 11 मंगलवार करने से हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है.

हनुमान चालीसा के पाठ में क्या-क्या सावधानी बरतें-

– हनुमान चालीसा का पाठ हमेशा नहा धोकर और साफ कपड़े पहन कर ही करें.

– शराब और मास मदिरा से दूर रहें.

– मन मे पूरी श्रद्धा और विश्वास बनाएं रखें.

हनुमान चालीसा से होंगे ढेरों फायदे-

– हनुमान चालीसा के पाठ करने से हमें बहुत तरीके के फायदे हो सकते हैं, जैसे-

बच्चों का पढ़ाई में मन ना लगे तो निम्न पंक्तियों का पाठ करें-

– बल बुद्धि विद्या देहु मोहि हरहु कलेश विकार||

–  इस पंक्ति को लगातार 11 बार बच्चों को पढ़ाई करने से पहले करवाएं 27 दिन लगातार करने से बहुत फायदा होगा.

मन में अकारण भय हो तो निम्न पंक्ति पढ़ें-

– भूत पिशाच निकट नहीं आवे महावीर जब नाम सुनावे.

– इस पंक्ति का 27 बार पाठ करने से किसी भी व्यक्ति के मन का भय दूर हो जाता है.

किसी भी कार्य को सिद्ध करने के लिए निम्न पंक्ति पढ़ें-

– भीम रूप धरि असुर संघारे सियाराम जी के काज सवारे.

– इस पंक्ति को किसी भी कार्य को करने से पहले कम से कम 13 बार अवश्य पढ़ें.

बहुत समय से यदि बीमार हैं तो निम्न पंक्ति पढ़ें-

– नासै रोग हरे सब पीरा  जपत निरंतर हनुमत बीरा

– निम्न पंक्ति को हर बार दवा लेने से पहले 7 बार जरूर पढ़ें ऐसा लगातार करते रहें.

प्राणों पर यदि संकट आ गया हो तो निम्न पंक्ति पढ़ें-

– संकट कटे मिटे सब पीरा जो सुमिरे हनुमत बलबीरा

– जब तक संकट कट ना जाए तब तक लगातार मन ही मन इस पंक्ति को ध्यान करते हुए पढ़ते रहना चाहिए.

हनुमान चालीसा का पाठ देगा मनचाहा वरदान-

– हनुमान चालीसा का पाठ सूर्योदय के समय या सूर्यास्त के बाद करें.

–  हनुमान चालीसा का पाठ रोग दोष शोक कलह क्लेश आपदा और विपदा को टालता है.

– हनुमान चालीसा का पाठ विधि पूर्वक करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है और दुष्ट लोगों से रक्षा होती हैं.

Sources:-Aaj Tak

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here