कभी खत्म करना चाहते थे अपनी जिंदगी,आज हजारों बेघरों का पेट पालते हैं ऑटो चालक मुरुगन

कही-सुनी

कहते हैं कि अमीरी पैसे से नहीं बल्कि दिल से आती है। ये बात सटीक बैठती है तमिलनाडु के रहने वाले ऑटो चालक मुरूगन पर जो कभी अपनी ज़िंदगी से तंग आकर आत्महत्या करना चाहते थे। लेकिन आज हजारों बेघर गरीबों को पेट भरते हैं। उनकी तारीफ में पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने भी ट्वीट किया है।

मुरुगन 1992 में जब कक्षा 10 में फेल हो गए थे तो उन्होंने आ’त्मह’त्या करने का फैसला किया। उस दिन वह 300 रुपये लेकर घर से भाग गए और उन्होंने तय किया कि बस उन्हें जहां भी ले जाएगी वहां अपनी जिंदगी ख’त्म कर देंगे। वह अपने गृहनगर चेन्नई से लगभग 500 किलोमीटर दूर कोयंबटूर के सिरुमुगई पहुंच गए।

मुरुगन बताते हैं ‘सिरुमुगई में रात 2 बजे जैसे ही मैं फुटपाथ पर बैठा मेरी मुलाकात एक बुजुर्ग मोची से हुई, जिसने मुझे रात के लिए आश्रय दिया। मैंने अपने आस-पास बहुत से दुर्भा’ग्यशाली लोगों को देखा जो फुटपाथ पर सो रहे थे।मैंने सोचा कि जिंदगी खत्म करने का विचार गलत है मुझे इसे दूसरों की मदद में लगाना चाहिए।’इसके बाद मुरूगन की जिंदगी बदल गई।

आज सत्तािस साल बाद वह एक संगठन चलाते हैं जो बेघरों की देखभाल करता है और खाना खिलाता है।वह आज बेहद खुश हैं और शादीशुदा है,उनके दो बच्चे भी है।

शुरुआती वर्षों के बारे में बात करते हुए, वह कहते हैं, ‘सिरुमुगई बस स्टॉप पर सभी भिखारियों ने मेरे लिए चेन्नई वापस जाने के लिए पैसे एकत्र किए, लेकिन मैंने इसे वापस कर दिया और वहां रहने और कुछ उपयोगी करने का फैसला किया।’

पहली नौकरी जो वह ढूंढने में कामयाब रहा, वह पास के एक होटल में थी जहाँ उन्होंने सफाई की। वह बताते हैं कि’मुझे वहां तीन वक्त का खाना मिला, इसलिए मैंने वहीं रहकर काम किया। मैं सुबह 4 बजे उठता, पास के तालाब में सफाई और स्नान करता और काम शुरू करता। मैंने ऐसा छह महीने तक किया, जिसके बाद मुझे हर सुबह अखबार बांटने का काम मिला। मैंने जैसी भी नौकरी की पूरी मेहनत से अपना काम किया। ‘

2006 में,दुर्भाग्यवश जिस कंपनी ने मुरुगन को नौकरी पर रखा था वह बंद हो गई। जिसके बाद डमुरुगन ने ऑटो चलाना शुरू कर दिया। वह कहते हैं, ‘ मैंने ऑटो चलाकर जो पैसा कमाया वह बेघरों को खिलाने पर खर्च किया गया। ‘

औसतन, वह प्रति माह 3,000 रुपये कमाता था। उन्होंने उस पैसे का एक हिस्सा सब्जियों, चावल और अनाज खरीदने के लिए पास के एक स्कूल में अलग-अलग बच्चों के लिए पकाने के लिए इस्तेमाल किया। मुरूगन ने तमाम काम बदले लेकिन गरीबों को खाना खिलाना बंद नहीं किया।

धीरे-धीरे, अन्य लोगों ने भी उनका साथ जुड़ना शुरू कर दिया। आज उनका संगठन प्रत्येक रविवार को 1,300 से अधिक लोगों के लिए घर पर पकाए गए सांबर-चावल प्रदान करता है।

उन्होंने कहा, ‘सोमवार से शुक्रवार तक हम सभी पैसे कमाने के लिए काम करते हैं। हम लगभग 25 घरों में बेघर लोगों को खाना बनाने और वितरित करने में अपना सप्ताहांत बिताते हैं। हमारी तैयारी शनिवार रात से शुरू करते हैं, जबकि वितरण रविवार को होता है। मेरी पत्नी और दो बच्चे इसके बराबर का हिस्सा हैं। ‘

क्या वे पर्याप्त पैसा कमाते हैं? वह जवाब देता है, ‘हमारे पास बहुत से शुभचिंतक हैं जो हमारी मदद कर रहे हैं। मुझे पहले नौकरी पर रखने वाले शब्बीर इमानी एक भगवान का भेजा गया बाशिंदा है, जो प्रत्येक महीने पैसे का योगदान देता है। ‘

उन्होंने अपना काम एक आदमी के मिशन के रूप में शुरू किया था, आज 50 से अधिक स्वयंसेवक उनके साथ जुड़े हुए हैं।

Sources:-Live News

Leave a Reply

Your email address will not be published.