हिन्दू मुस्लिम की एकता को दर्शाने वाला बिहार का एक मंदिर

आस्था

खुदनेश्वर धाम ,मोरवा( समस्तीपुर)

 मोरवा स्थित खुदनेश्वर धाम समस्तीपुर जिला में स्थित है.यहां बाबा भोलेनाथ की भक्ति भक्तों के सर चढ़कर बोलती है . तो आइए आज हम आपको भोले नाथ के इस मंदिर के बारे में  जो केवल आस्था का प्रतीक है,. गंगा जमुनी तहजीब वाली जगह है  ये ,जहां आने वाले भक्तों की श्रद्धा देखने लायक है. इस मंदिर में एक ही छत के नीचे मुस्लिम महिला खुदनी बीबी की मजार और शिवलिंग स्थापित है.

बोला जाता है ,कि हिन्दू-मुस्लिम एकता का उदाहरण  है ये खुदनेश्वर धाम इसकी  13वीं शताब्दी में हुई थी।कहा जाता है कि कालांतर में यहां निर्जन वन थे और इस जगह  खुदनी बीबी नाम की एक मुस्लिम महिला  गाय चराने के लिए आया करती थी. एक खास जगह उसकी गाय अपने आप दूध देने लगती थी , यह बात खुदनी ने देख लिया था तो भोले नाथ प्रकट होकर उसे इस रहस्य को नहीं बताने की शर्त रखी और कहा कि जिस दिन यह बात वह सबको बताएगी  उसकी मृत्यु हो जाएगी. शाम को जब वह गाय लेकर घर जाती तो उसे घरवालों की डांट सुननी पड़ती थी खुदनी बीबी पर  दोष लगाए जाते थे . बार-बार अपने ऊपर आरोप लगते देख एक दिन खुदनी ने इस रहस्य को सबको  बता दिया जिसके बाद उसकी मृत्यु हो गई. खुदनी बीबी की मौत के बाद घर के लोगों ने उसी जगह पर खुदनी को दफना दिया और मजार बना दिया. कुछ दिनों बाद मजार के ठीक बगल में शिवलिंग प्रकट हुआ तो दोनों संप्रदाय के लोगों ने साथ मिलकर यहां पर मंदिर की स्थापना की और इसका नाम खुद्नेश्वर स्थान मंदिर पड़ा. तब से यहां पूजा-अर्चना चलती आ रही है.

 

कहा जाता है कि जो भी कोई अपनी मनोकामना लेकर यहां जलाभिषेक करते हैं, उनकी कामना बाबा भोले अवश्य पूरा करते हैं. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *