– सुबह 10 बजे से रात आठ बजे दी जाएंगी सेवाएँ- गर्भवती महिलाओं और शिशुओं को दिए जाएंगे टीके
शहरी आबादी और स्लम बस्तियों में स्वास्थ्य की दशा को सुधारने के उद्देश्य से मुजफ्फरपुर के चार शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर मॉडल टीकाकरण केंद्र की स्थापना की गई है। जिसमें अघोरिया बाजार, लक्ष्मी चौक, बालू घाट और चतुर्भुज स्थान शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र शामिल है। इन टीकाकरण केन्द्रों में गर्भवती महिलाओं और जन्म के बाद के शिशुओं को टीका दिया जाएगा। इन टीका केन्द्रों की खासियत है कि ये सुबह 10 बजे से रात को आठ बजे तक खुली रहेंगी। अभी सदर अस्पताल में 2 बजे दिन तक ही टीका दिया जा रहा है। विदित हो कि राज्य सरकार 90 प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य के करीब है। इसमें हैपेटाइटिस के दूसरे चरण, आईपीवी पोलियो, निमोनिया, डीटीपी सहित रोटा वायरस जैसे टीके दिये जाएंगे।स्लम बस्तियों तक पहुंचें स्वास्थ्य सेवाएँ: मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन डॉ एसपी सिंह ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों की अपेक्षा शहरी क्षेत्रों में टीकाकरण की संख्या कम है। वहीं राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन का मुख्य उद्देश्य शहरी, खास कर स्लम बस्तियों में रहने वालों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना है। जिसमें गर्भवती महिलाओं और बच्चों पर विशेष ध्यान देना है। अभी चार जगहों पर काम पूरा कर लिया गया है। जल्द ही वहां नर्स और चिकित्सक की नियुक्ति हो जाएगी।

दिया गया है अलग रूप रंग: टीकाकरण कार्नर को पूरी तरह से आधुनिक डिज़ाइन देने की कोशिश की गई है। जो परंपरागत रंगों से भिन्न है । यहां पेंडेंट लाइट्स के साथ एलईडी भी लगाए गए हैं। वहीं टीकाकरण के फायदों को बोर्ड के द्वारा भी बताया गया है। टीकाकरण कराने आये लोगों के लिए घूमने वाले स्टूल की भी व्यवस्था है। मॉडर्न टीकाकरण कार्नर के हो चुके है सफल प्रयोग: मुजफ्फरपुर सहित अन्य जिलों में इस कार्नर से पहले तीन जगहों पर यह कार्नर बनाये गए थे। जिसमें पटना, गया और पूर्णियां शामिल थे। इसके सफल संचालन के बाद विभाग ने राज्य के 23 जिलों में इसकी स्थापना करने का निर्णय लिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here