बिहार के पश्चिमी चंपारण के छोटे से गांव बेलवा में जन्मे मनोज बाजपेयी आज बॉलीवुड के उन कलाकारों में शुमार हैं जिन्होंने एक्टिग में एक अलग मिसाल कायम की है. मनोज बाजपेयी अपने काम को लेकर इतने सतर्क रहते हैं कि उनके लिए बड़े बैनर में काम करने के बजाए अच्छी स्क्रिप्ट पर काम करना ज्यादा माएने रखता है. आइए जाने बिहार के एक छोटे से गांव का लड़का कैसे बना बॉलीवुड का अल पचीनो!

सत्या. शूल, गैंग्स ऑफ़ वासेपुर जैसी शानदार फ़िल्में करने वाले मनोज वाजपेयी का आज जन्मदिन है। वह 50 वर्ष के हो गए हैं और आज अपना यह ख़ास दिन सेलिब्रेट कर रहे हैं। आपको बता दें कि, मनोज (Manoj Bajpayee) आज जो फ़िल्मी जगत के दिग्गज स्टार्स में से एक गिने जाते हैं। लेकिन उनके करियर में एक समय ऐसा आया था कि, जब उनकी असफलता के चलते पत्नी ने उनको तलाक दे दिया था।

दूरदर्शन के एक कार्यक्रम से हुई शुरुआत

अपने फ़िल्मी करियर में हर तरह के किरदार निभा कर दर्शकों के दिलों पर राज करने वाले मनोज वाजपेयी आज भले ही एक बड़े अभिनेता हैं। लेकिन उन्होंने फिल्मों से पहले दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले एक कार्यक्रम ‘स्वाभिमान’ से किया था। इसके बाद पहली बार साल 1994 में निर्देशक शेखर कपूर ने उनको ‘बैंडिट क्वीन ‘ में ब्रेक दिया जहां से उनके जीवन में एक मोड़ आ गया। इसके बाद आई राम गोपाल वर्मा की फिल्म ‘सत्या’ के बाद तो उनके जीवन में एक ऐसा मोड़ आया जिसके बाद हर फिल्म से एक बड़ी कामयाबी हासिल करते चले गए।

असफलता की वजह से पत्नी ने दिया था तलाक

नसेशनल अवार्ड, फिल्म फेयर अवार्ड पाने वाले मनोज वाजपेयी जो आज फ़िल्मी दुनिया पर राज करते हैं। एक समय ऐसा भी था कि, असफलता की वजह से उनकी पत्नी ने तलाक दे दिया था। ऐसा कहा जाता है कि, दिल्ली की एक लड़की से शादी की थी। लेकिन दोनों की शादी लंबे समय तक नहीं चल पायी। शादी के 2 महीने बाद ही वह पहली पत्नी से अलग हो गए थे।

Sources:-Live News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here