गया, बोधगया, राजगीर और नवादा में कब तक पहुंचेगा गंगाजल, सीएम नीतीश ने किया क्‍लीयर

जानकारी

बिहार के 110वें स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को ऐतिहासिक गांधी मैदान में तीन दिवसीय बिहार दिवस समारोह का उद्घाटन दीप जलाकर और गुब्बारे उड़ाकर किया। मुख्य समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार सबके लिए काम कर रही है। जल-जीवन-हरियाली योजना के तहत गंगा जल को गया, बोधगया, राजगीर एवं नवादा पहुंचाने की योजना है। बरसात के पहले पूरा करने का प्रयास है। बारिश के चार महीने के दौरान गंगा जल को उक्त जिलों में पहुंचाकर वर्ष भर शुद्ध जल की आपूर्ति की जाएगी। नीतीश ने इस वर्ष के इंटर के टापर विद्यार्थियों सम्मानित किया।

इसके पहले डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद एवं शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने भी समारोह को संबोधित किया। कोरोना के चलते गांधी मैदान में तीन वर्ष बाद बिहार दिवस का आयोजन किया गया। पहली बार 2012 में बिहार गठन के सौ वर्ष पूरे होने पर बड़े स्तर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। जल-जीवन-हरियाली थीम पर आधारित समारोह की छटा पूरे मैदान में दिखी।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में हर क्षेत्र में तेजी से विकास हो रहा है। किसी भी क्षेत्र को छोड़ा नहीं जा रहा है। बिहार का जो गौरव था, उसे प्राप्त करने की कोशिश की जा रही है। नालंदा विश्वविद्यालय को फिर से स्थापित किया गया। उसके पुराने अवशेषों को विश्व धरोहर के रूप में लाने की कोशिश है।

न्होंने कहा कि राज्य में अल्पसंख्यक, महिला, अनुसूचित जाति-जनजाति का विकास हुआ। उन्होंने लालू-राबड़ी का नाम लिए बगैर कहा कि कभी यहां शाम में लोग निकलते नहीं थे, पर अब ऐसा नहीं है। अमन-चैन है। लगातार विकास कार्यों में तेजी लाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने प्रदेशवासियों को अगाह किया कि कुछ लोग गड़बड़ कर रहे हैं। उनके चक्कर में नहीं पडऩा है। सभी लोग अमन-चैन से रहें और प्रदेश के विकास में अपना योगदान दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.