इस छात्र को गूगल ने दिया 1.2 करोड़ का सालाना पैकेज

जिंदगी

पटना: बेंगलुरु के इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंफोर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी (IIITB) के 22 वर्षीय एक छात्र को गूगल ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर रिसर्च करने के लिए 1.2 करोड़ का पैकेज ऑफर किया है. IIITB के इस छात्र का नाम आदित्य पालिवाल है, जो रविवार को कॉलेज के दीक्षांत समारोह में हिस्सा लेगा.

आदित्य पालिवाल मूल रूप से मुंबई के रहने वाले हैं और इंटीग्रेटेड एमटेक के छात्र हैं. न्यूज 18 से बात करते हुए उन्होंने कहा, “गूगल में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की टेक्नोलॉजी पर रिसर्च करने के लिए एक टेस्ट लिया था, जिसमें पूरी दुनिया के 6000 छात्रों ने भाग लिया और 50 का चयन किया.” गूगल ने पूरी दुनिया से जिन 50 छात्रों का चयन किया आदित्य भी उनमें से एक हैं.

आदित्य 2017-18 के एसीएम इंटरनेशनल कॉलेजिएट प्रोग्रामिंग कॉन्टेस्ट (आईसीपीसी) के भी फाइनलिस्ट रहे हैं. यह कॉन्टेस्ट कंप्यूटर कोडिंग प्रोग्राम से संबंधित प्रतिष्ठित प्रतियोगिताओं में से एक है. अप्रैल में हुए इस कॉन्टेस्ट में सिमरन दोजानिया और श्याम केबी उनके साथी थे. 111 देशों के 3098 विश्वविद्यालयों के करीब 50 हजार विद्यार्थियों ने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था.

एसीएम आईसीपीसी विश्वस्तर पर मान्यता प्राप्त चार दशक पुराना ग्लोबल कॉम्पटिशन प्रोग्राम है. इस कॉम्पटिशन में छात्र कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग से संबंधित समस्याओं को हल करने के लिए प्रितिस्पर्धा करते हैं.

आदित्य पालिवाल 16 जुलाई से गूगल के साथ काम करना शुरू करेंगे. उन्होंने बताया कि उन्हें कुछ महीने पहले गूगल से यह ऑफर मिला था. इसके साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि गूगल में काम करने के दौरान वह कई नई चीजें सीखेंगे और रिसर्च करेंगे.

 

बेंगलुरु में बिताए उनके पिछले 5 सालों के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, “यहां रहना काफी अच्छा अनुभव रहा. फैकल्टी ने हमेशा मुझे बेहतर करने के लिए प्रेरित किया और मेरे इनोवेटिव आइडियाज़ को सपोर्ट किया. मेरे सीनियर्स ने भी मेरी कामयाबी में अहम रोल निभाया. मिस्टर श्रीनिवासगुरु और मुरलीधर का तो मेरी कामयाबी में बहुत अहम रोल है. सच कहूं तो जो मैं कर पाया ये उन्हीं की वजह से है. आदित्य ने बताया कि प्रोग्रामिंग के अलावा उन्हें कार ड्राइविंग पसंद है, इसके साथ ही वह फुटबॉल और क्रिकेट को भी फॉलो करते हैं.

Source: News18

Leave a Reply

Your email address will not be published.