गांवों में घुसा गंगा का पानी, सुरक्षित ठिकाने की तलाश में घर छोड़ रहे लोग

खबरें बिहार की जानकारी

गंगा के जलस्तर में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। बिहार के भागलपुर में गंगा का पानी गांवों के अंदर घुस रहा है। लोगों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। बाढ़ प्रभावित परिवार सुरक्षित स्थान को जाने लगे हैं। वहीं जिला प्रशासन ने संबंधित सीओ को तटबंधों और प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण कर तत्काल रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया है।

खतरे के निशान से ऊपर बह रही गंगा


भागलपुर जिले में सुल्तानगंज, कहलगांव, इस्माईलपुर सहित अन्य जगहों पर गंगा का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया है। सभी जगहों पर गंगा के जलस्तर में वृद्धि जारी है। शहरी क्षेत्र के बूढ़ानाथ, सखीचंद घाट, सराय, अहमदनगर और कई अन्य मोहल्लों के निचले हिस्से में बाढ़ का पानी घुस गया है। नाथनगर के शंकरपुर और रत्तीपुर बैरिया पंचायत के लोग विश्वविद्यालय परिसर में रहने के लिए आने लगे हैं। सबौर प्रखंड के रजंदीपुर, संतनगर,बालाजी टोला, बगडेर,ममलखा, चाईचक आदि गांवों में पानी घुस गया है। लोग नाव से सुरक्षित स्थानों पर जा रहे हैं। कहलगांव,पीरपैंती और सुल्तानगंज प्रखंड के कई गांवों में बाढ़ का पानी फैलने लगा है।

गांवों में भर रहा पानी फिर भी कोई इंतजाम नहीं 
स्थानीयों लोगों ने बताया कि गांवों में गंगा का पानी घुसता जा रहा है फिर भी अभी तक प्रशासन द्वारा नाव आदि की व्यवस्था प्रभावित लोगों के लिए नहीं की गयी है। खाद्यान्न और राहत सामग्री की भी कोई उपलब्धता सुनिश्चित नहीं की गयी है।

तटबंधों पर लगातार नजर
जिला आपदा प्रबंधन शाखा के प्रभारी शैलेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि गंगा  के जलस्तर में वृद्धि हो रही है, लेकिन बाढ़ की स्थिति अभी गंभीर नहीं है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के सभी सीओ को तटबंधों और प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण कर तत्काल रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया गया है। फोटोग्राफ्स के साथ रिपोर्ट आने लगी हैं। जलस्तर और तटबंधों पर लगातार नजर रखी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.