बिल-मिलिंडा गेट्स सुधारेंगे बिहार का स्वास्थ्य, अस्पतालों को बनाएंगे मॉडल

अंतर्राष्‍ट्रीय खबरें

स्वास्थ्य मानकों में सुधार के लिए राज्य सरकार ने बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के करार को तीन साल के लिए और विस्तार दे दिया। संस्थान द्वारा राज्य के 38 जिलों में स्वास्थ्य एवं पोषण मानकों के सुधार में तकनीकी सहयोग दिया जायेगा।

मंगलवार को इसको लेकर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि राज्य के जिला अस्पतालों को मॉडल अस्पताल बनाया जाना है। इसके लिए सभी तरह के मानकों में सुधार की दिशा में कदम उठाये जा रहे हैं।

उन्होंने फाउंडेशन से अनुरोध किया कि वह विश्व के स्वास्थ्य मानकों के अनुसार अपना सुझाव विभाग को दे। उन मानकों के अनुसार राज्य सरकार द्वारा काम किया जायेगा।

 

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय मंगलवार को स्वास्थ्य सेवाओं में फाउंडेशन द्वारा तकनीकी सहायता ईकाई के दूसरे चरण के सुधार कार्यक्रमों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि फाउंडेशन के तीन सालों का कार्यकाल राज्य की जनता के लिए लाभप्रद रहा।

फाउंडेशन से यह अपेक्षा है कि वह तकनीकी सहयोग के साथ तकनीकी आधारित स्वास्थ्य सेवाओं के विकास में सहयोग करे।

बिल गेट्स

माइक्रोसॉफ्ट नामक कम्पनी के सह संस्थापक तथा अध्यक्ष है। इनका जन्म 28 अक्टूबर, 1955 को वाशिंगटन के एक उच्च-मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ। इनके पिता का नाम विलियम एच. गेट्स तथा माता का नाम मेरी मैक्सवैल था। पिता एक प्रतिष्ठित वकील तथा माता एक बैंक के व्यवस्थापक मंडल की सदस्य थीं।

वर्ष 1975 में बिल गेट ने पाल एलन के साथ विश्व की सबसे बड़ी साफ्टवेयर कम्पनीकी माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना की। बिल गेट्स पर्सनल कंप्यूटर क्रान्ति के अग्रिम श्रेणी के उद्यमी माने जाते हैं, तथापि बिल गेट्स की आलोचना उनकी व्यापार रणनीतियोँ के लिए की जाती रही है।

एकाधिकार वादी व्यापारिक रणनीति अपनाने की आलोचना कपितय न्यायलयो द्वारा भी की गयी है।

32 साल पुरे होने के पहले ही 1987 में उनका नाम अरबपतियों की फ़ोर्ब्स की सूची में आ गया और कई साल तक वो इस सूची में पहले स्थान पर बने रहे।

2007 में उन्होंने 40 अरब डालर ( लगभग 1760 अरब रूपये) दान में दिए। बिल गेट्स माइक्रोसाफ्ट के चेयरमैन हैं, जिसका साल 2010 में करोबार 63 बिलियन डालर और मुनाफा करीब 19 अरब डालर का रहा।

gates foundation

बिल और मेलिंडा गेट्स संस्थान- परोपकार कार्य

बिल और मेलिंडा गेट्स संस्थान जिसे गेट्स संस्थान भी कहा जाता है। वर्ष 2000 में बिल गेट्स और मेलिण्डा गेट्स ने इसकी शुरुआत की थी। इसका मुख्य लक्ष्य अमेरिका में स्वास्थ्य के क्षेत्र में सुधार करना था। जिसे बाद में शिक्षा के क्षेत्र में भी बढ़ा दिया गया। यह विश्व के कुछ सबसे बड़े निजी संस्थाओं में से एक है।

1997 में यह विलियम गेट्स संस्थान स्थापित किए। इस समय वह 2 बिलियन डॉलर (₹1,000 करोड़ रुपये) इस संस्थान को उस वर्ष दिया था। 15 जून 2006 को गेट्स ने कहा कि वे धीरे धीरे अब माइक्रोसॉफ़्ट से हटेंगे। 31 जुलाई 2008 को वह संस्थान को और भी समय देने लगे।

बिल और मेलिंडा को वर्ष 2005 में उनके दान के कारण 2005 वर्ष का व्यक्ति के रूप में नाम दिया गया।

जनता की यह अभिमत तीव्रतर होने पर कि वे अपने धन में से और अधिक दान कर सकते थे, गेट्स महसूस करने लगे कि अन्य लोगों की उनसे क्या अपेक्षाएँ थी। गेट्स ने ऐंड्रू कार्नेगी (Andrew Carnegie) अवंजॉन डी.रॉकफेलरके कार्यों पर अध्ययन किया।

रोकफेलर (John D. Rockefeller) और अपनी माइक्रोसॉफ्ट के कुछ शेयरों को 1994 में विलियम एच गेट्स फाउंडेशन बनाने के लिए बेच डाला.गेट्स फाउंडेशन. वर्ष 2000 में गेट्स और उनकी पत्नी ने तीन पारिवारिक संस्थानों को संयुक्त कर बिल एवं मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन (Bill & Melinda Gates Foundation) के नाम से एक दातव्य संस्थान बनाया, जो कि विश्व में सबसे बड़ी पारदर्शी तरीके से संचालित चैरिटेबल फाउंडेशन है।

अन्य प्रमुख चैरिटेबल फाउंडेशन जैसे वेलकॉम ट्रस्ट (Wellcome Trust) से भिन्न, स्थापित संस्थान अपने पृष्ठपोषकों को यह जानकारी प्राप्त करने की अनुमति देती है कि मुद्रा किस प्रकार खर्च किया जा रहा है।

यह डेविड रॉकफेलर (David Rockefeller) की उदारता और व्यापक परोपकारधर्मिता का एक विशेष प्रभाव माना गया। गेट्स और उनके पिता रॉकफेलर के साथ कईबार मिले और अपने विभिन्न दानकार्यों को रॉकफेलर परिवार (Rockefeller family) के परोपकारिता आधारित कार्यों के ढांचे पर, जैसे कि, विश्व के उन समस्याओं जिन्हें सरकारों और अन्य संस्थाओं द्वारा नजरंदाज किया जाता है, संगठित किया।

संस्थान के अनुदानों में से जिस मद में कोष प्रदान किए गये :

कृषिकार्य/ खेतीबाडी
कम प्रतिनिधित्त्व वाले अल्पसंख्यक समुदायों के लिये कालेज छात्रवृत्तियां (scholarships)
ऐड्सनिवारण
तीसरी दुनिया के देशों में फैले रोग
अन्य कारण

वर्ष 2000 में, गेट्स फाउंडेशन ने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय को $210 मिलियन गेट्स कैम्ब्रिज छात्रवृत्तियां प्रदान करने के लिए समर्पित किया। फाउंडेशन ने $1बिलियन संयुक्त निग्रो कॉलेज कोष सहित $7बिलियन से ज्यादा की राशि विभिन्न उद्देश्यों के लिए देने का संकल्प लिया।

वर्ष 2004 में फोर्ब्स पत्रिका में प्रकाशित एक लेख के अनुसार वर्ष 2000 से अबतक गेट्स ने $29 बिलियन से अधिक राशि दातव्य कार्यों प्रदान कर चुका है। ये दानराशियां, अक्सर अधिक अमीरों के नज़रिया में उद्दीपक तथा पर्याप्त परोपकर्धर्मी (philanthropy) बदलाव के तौर पर उधृत की जाती है, जिससे परोपकार कार्य आधार बनते नज़र आते हैं।

बुफ्फे, जो कि दुनिया के समृद्ध व्यक्तियों में दुसरे थे, ने 25 जून, 2006 को घोषणा की कि उन्होंने फाउंडेशन को, कई वर्षों में सम्प्रसारित बर्कशायर हैथवे क्लास बी शेयर के वार्षिक योगदान के माध्यम से $10मिलियन देने का संकल्प किया है।

गेट्स ने जून 15, 2006 को घोषणा की कि माइक्रोसॉफ्ट में उनकी अंशकालिक भूमिका रहेगी और जुलाई 2008 से दैनिक परिचालन प्रबंधन कार्य छोडकर, परन्तु अध्यक्ष एवं सलाहकार के रूप में बने रहने के साथ, परोपकार कार्य में पूर्ण कालिक भूमिका निभायेंगे. गेट्स ने, उनके दातव्य उद्देश्यों में योगदान के लिए लिये गये निर्णयों को प्रभावित करने का श्रेय बुफ्फे को दिया.

कुछ दिनों के बाद बुफ्फे ने घोषणाकी कि वे गेट्स फाउंडेशन में गेट्स के बराबर $1.5 बिलियन तक प्रति वर्ष शेयर के माध्यम से योगदान प्रारम्भ करेंगे.

बुफे ने फाउंडेशन को अपनी सम्प्रदानों को त्वरित करने में पथ प्रदर्शन कर मदद की.यह बहुत थोड़े से जीवन सीमा वाले दातव्य प्रतिष्ठानों में से एक हो गया है, जो अपने सभी संसाधनों को खर्च करने तथा इसके संस्थापकों के मरने के 50 वर्षों के अन्दर बंद करने के लिए प्रतिश्रुत है।

वॉरेन बुफे और बिल गेट्स दोनों योजनाबद्ध पितृत्व के जोरदार समर्थक रहे, जो बुफे और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशनस से वितीय सहायता प्राप्त एक अलाभकारी प्रतिष्ठान है। संयुक्त राज्य में सम्पन्न होनेवाले कुल गर्भपातों के लगभग 20% का सम्पादन योजनाबद्ध पितृत्व द्वारा किया जाता है।

योजोनावध्य पितृत्व के लिए लगभग एक तिहाई धन सरकारी अनुदानों और अनुबंधों (वर्ष 2007 में $336.7 लाख) से तथा अवशेष क्लिनीक के आय और बिल गेट्स जैसे धनी व्यक्तियों से दान के रूप में आते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.