गर्मी बढ़ने से बढ़े डायरिया व बुखार के मरीज: बच्चों में उल्टी-डायरिया के साथ मुंह सूखने और बुखार की समस्या, बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं अस्पताल

जानकारी

तामपान चढ़ने के साथ ही बढ़ रही गर्मी से आम लोग परेशान हैं। परेशानी का आलम यह है कि अत्यधिक गर्मी की वजह से सदर अस्पताल के आउटडोर में रोगियों की संख्या में अचानक इजाफा हो गया है। लोगों को सर में दर्द, बुखार और डिहाइड्रेशन की सामान्य बताया जा रहा है।

राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल के आउटडोर में मेडिकल वार्ड और बच्चा वार्ड में रोगियों की अत्यधिक भीड़ है। बच्चा रोग विशेषज्ञ डॉ प्रेम प्रकाश बताते हैं कि बढ़ती इस गर्मी में लोग बुखार और डिहाइड्रेशन की परेशानी से ग्रसित हो जाते हैं। अत्यधिक गर्मी की चपेट में ज्यादातर लोगों को बुखार की परेशानियां जाती है।

बच्चों में डिहाइड्रेशन की शिकायत रहती है। उन्होंने बताया कि बच्चा वार्ड में भी 10 बच्चे भर्ती हैं जिनमें पांच बच्चों में डिहाइड्रेशन की परेशानी है। ऐसे में गर्मी से बचाव जरूरी है। खासकर बच्चों को इस गर्मी से बचाए रखने की जरूरत है। चिकित्सक बताते हैं कि घरों से निकलने के दरम्यान छाते का जरूर जरूर प्रयोग करना चाहिए ताकि गर्मी से बचा जा सके। ठंडा पानी का सेवन करना चाहिए।

अत्याधिक गर्मी और बुखार हो जाने की स्थिति में ठंडे पानी से बदन को पोंछकर ठंडा करना चाहिए। विशेष परेशानी की स्थिति में चिकित्सकों से मिलना चाहिए ताकि बच्चों का समुचित उपचार हो सके। डी-हाइड्रेशन होने की स्थिति में ओआरएस का घोल और जिंक का सिरप के साथ-साथ जरूरत के हिसाब से दवा का सेवन चिकित्सकीय सलाह के अनुसार जरूरी है। चिकित्सक बताते हैं कि इन्फेक्शन से बचने के लिए साफ और ताजा भोजन करें।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ चिकित्सक
● बच्चों को स्कूल जाने से पहले अच्छी तरह से नाश्ता करा कर और पानी पिलाकर भेजें

● बच्चों को स्कूल में भी थोड़े-थोड़े अंतराल पर पानी पीते रहने के लिए प्रेरित करें

● बच्चों को दो बार ठंडा पानी से देर तक नहलाएं, उनको घर के सबसे ठंडे हिस्से में रखें व सुलाएं

● सामान्य आयुवर्ग के लोग भी तेज धूप में अनावश्यक नहीं निकलें

● हल्का और ताजा भोजन लें, बाजार का खाना से परहेज करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.