छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में देश की पहली गार्बेज कैफे योजना शुरू की गई है। इसके तहत नगर निगम शहर के गरीब और बेघर लोगों को प्लास्टिक के बदले भोजन कराएगा।

अभियान के तहत सड़क पर बिखरे एक किलो प्लास्टिक कैरी बैग लाने पर मुफ्त भोजन और आधा किलो प्लास्टिक कैरी बैग लाने पर भर पेट नाश्ता कराया जाएगा। शहर के प्रतीक्षा बस स्टैंड से इसका संचालन किया जाएगा। 

सोमवार को पेश हुए नगर निगम के बजट में इस योजना लिए साढ़े पांच लाख रुपए का प्रावधान किया गया है। जबकि जरूरत पड़ने पर जनप्रतिनिधियों से मदद ली जाएगी। मेयर डॉ. अजय तिर्की ने बताया कि गार्बेज कैफे के तहत इस अभियान को शुरू करने वाला अंबिकापुर देश का पहला शहर होगा। अब तक किसी निगम में यह व्यवस्था नहीं है।

बेघर लोगों के खाने और रहने का प्रबंध किया जाएगा
अभियान के तहत नगर निगम शहर के गरीब औरबेघर लोगों को मुफ्त में भोजन कराएगा। यही नहीं ऐसे लोगों के लिए भोजन के साथ रहने का प्रबंध भी किया जाएगा। इस योजना को स्वच्छता अभियान से जोड़ा जा रहा है। अंबिकापुर स्वच्छता अभियान में देश में दूसरे नंबर पर है।

दावा- प्लास्टिक के मिश्रण से प्रदेश में पहली सड़क यहीं बनाई गई

  • मेयर डॉ. अजय तिर्की ने बताया कि निगम ने पहले ही प्लास्टिक कैरी बैग को प्रतिबंधित दिया है। गार्बेज कैफे से इसे जोड़कर इसे और सख्ती से अमल कराया जाएगा। अभियान के तहत प्लास्टिक कैरी बैग से ग्रेनुअल तैयार कर डामर वाली सड़क में उपयोग किया जाता है।
  • शहर में 8 लाख प्लास्टिक के मिश्रण से प्रदेश में पहली सड़क यहीं बनाई गई है। प्लास्टिक के मिश्रण से बनने वाली सड़क टिकाऊ होती है, क्योंकि इससे पानी अंदर नहीं जाता है। उन्होंने बताया कि लोग प्लास्टिक इकट्‌ठा कर निगम को देंगे। इसका उपयोग रिसाइकिल के बाद ग्रेनुअल तैयार कर सड़कें बनाने में होगा।

Sources:-Dainik Bhasakar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here