दानापुर रेल मंडल के पटना जंक्शन पर हुई ‘गंगा’ एप की शुरुआत, भाड़े की कीच-कीच के बिना बुक करें ऑटो-टैक्सी,तीनों स्टेशनों पटना जंक्शन, राजेन्द्रनगर टर्मिनल एवं दानापुर में उपलब्ध है.

खबरें बिहार की

दानापुर रेल मंडल के पटना जंक्शन से आज ‘गंगा’ एप की शुरूआत की गई है. पटना जंक्शन के डायरेक्टर डा. निलेश कुमार की उपस्थिति में सीटीआई(जी) शैलेन्द्र कुमार द्वारा हरी झंडी दिखाकर इसका शुभारम्भ किया गया. इस टैक्सी बुकिंग को न्यूनतन निविदा आधारित मूल्य पर ‘स्मार्ट कम्युनिटी सर्विस प्राइवेट लिमिटेड’ को अगले तीन वर्षों के लिए आवंटित किया गया है. यह सुविधा आज गुरुवार 2 अगस्त से दानापुर मंडल के तीनों स्टेशनों – पटना जंक्शन, राजेन्द्रनगर टर्मिनल एवं दानापुर में उपलब्ध है.

इस सेवा को ऑनलाइन के अलावा ऑफलाइन उसके बूथ काउंटर पर भी जाकर प्राप्त कर सकते हैं. बताया गया है कि निकट भविष्य में यह सुविधा पाटलिपुत्र स्टेशन में भी उपलब्ध हो जायेगी. इस सुविधा का उपयोग दूर-दराज के स्टेशनों से आने वाले यात्री कर पाएंगे. जिससे यात्रियों को निर्धारित उचित दर के साथ-साथ सुरक्षित यात्रा का भी आनन्द मिल सकेगा.

बता दें कि यह ‘गंगा’ एप गूगल प्लेस्टोर में ‘GANGA COMMUTE’ के नाम से उपलब्ध है, जिसे किसी भी स्मार्टफ़ोन में डाउनलोड किया जा सकता है.



दानापुर मंडल में नए दिशा-निर्देशों के अनुसार सफाई का टेंडर

प्रधानमंत्री द्वारा घोषित महत्वाकांक्षी ‘स्वच्छ भारत’ योजना के तहत पटना जंक्शन को ज्यादा साफ रखने का निर्णय लिया गया है. इसी कड़ी में आज पटना जंक्शन की साफ-सफाई का जिम्मा निविदा के आधार पर ‘मेसर्स सर्विस मास्टर क्लीन लिमिटेड, नई दिल्ली’ को दिया गया है. संस्था द्वारा अगले चार साल तक पटना जंक्शन की साफ–सफाई की जायेगी.

साफ़-सफाई की इस नई व्यवस्था में कार्यरत कर्मचारियों का बायोमेट्रिक उपस्थिति तथा न्यूनतम मजदूरी जरुरी किया गया है. साथ ही साफ–सफाई का निरीक्षण ‘ग्लोस्सोमीटर’ नामक यंत्र से करना, अत्याधुनिक मशीनों का प्रयोग, सफाई हेतु हाई क्वालिटी के डिटर्जेंट का प्रयोग तथा प्लेटफार्मों पर स्थित कूड़ेदानों का रख-रखाव जैसे कई कार्य भी संबंधित फर्म के ही जिम्मे दिया गया है. इस साफ–सफाई का निरीक्षण रेलवे अधिकारी कई स्तरों पर करेंगे.

मिली जानकारी के अनुसार उचित तरीके से सफाई नहीं होने पर रेल प्रबंधन द्वारा फर्म पर कम से कम 10 हजार से लेकर अधिकतम एक लाख रूपये तक का जुर्माना तथा टेंडर को रद्द करने जैसी कड़ी कार्रवाई भी की जायेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.