अगर आज पूजा में करेंगे ये 12 चीजें शामिल तो खुश हो जाएंगे श्रीगणेश, करेंगे आपके सभी दुख दूर

आस्था

आज से गणेशोत्सव शुरू हो गया है। इन दिनों भगवान श्रीगणेश की पूजा-अर्चना करने का विशेष महत्व माना जाता है। श्रीगणेशपुराण के क्रीडाखण्ड में दिए गए एक भाग को गणेशगीता कहा जाता है।

गणेशगीता में खुद भगवान गणेश ने ज्ञान के उपदेश दिए हैं। गणेश चतुर्थी की पूजा में किन वस्तुओं का उपयोग किया जाए, कौन सी वस्तु श्रीगणेश को सबसे प्रिय है, उसके बारे में खुद भगवान गणेश ने गणेशगीता में बताया है। पंचामृत को बनाकर भगवान को जरूर चढ़ाएं। पूजा के पहले भगवान को स्नान करवाएं।

भगवान गणेश को पीले रंग के कपड़े चढ़ाएं। उन्हें ये बेहद पसंद है। मुकुट और गहने भी भगवान गणेश को अति प्रिय है। गोंद से बना धूप भी गणेश जी को अति प्रिय है। मिट्टी के दीये को भगवान क सामेन जलाया जाए तो उन्हें ये बहुत अच्छा लगता है। गणेश जी को मोदक बहुत पसंद है तो उन्हें ये जरूर चढ़ाएं।




फल भी उन्हें बहुत पसंद है। पूजा कराने के बाद दक्षिणा भी दें। दूब भगवान को बहुत पसंद है। ताजे फूल का भी उनकी पूजा में खासा महत्व है। उनकी पूजा में नदी के जल को सबसे उत्तम माना जाता है।

इस साल विघ्नहर्ता आपके घर 10 नहीं बल्कि पूरे 11 दिन के लिए आएंगे, 25 अगस्त को गणेश चर्तुथी मनाई जाएगी. आप अगर किसी शुभ काम की शुरुआत करने चाहते हैं तो इस दिन कर सकते हैं क्योंकि गणेश चर्तुथी का दिन बेहद ही शुभ माना जाता है. आज हम आपको अपनी खबर के माध्यम से गणेश चर्तुथी का महत्व, पूजा विधा आदि के बारे में बताने जा रहे हैं.




क्या है गणेश चर्तुथी का महत्व

बप्पा के भक्तों को गणेश चर्तुथी का इंतजार काफी बेसब्री से रहता है, साल भर में आने वाली चर्तुथियों पर आप गणपति जी की पूजा करने से घर में संपन्नता, समृद्धि, सौभाग्य और धन की समावेश होता है. गणेश चर्तुथी को सबसे बड़ी चर्तुथी माना गया है. इस दिन के किए गए व्रत और पूजा का भी विशेष महत्व है.



पूजा-विधि

गणपति बप्पा की मूर्ति को घर में स्थापित करने के बाद विघ्नहर्ता की पूजा शुरू की जाती है, एक बात हमेशा याद रखें और वो ये है कि बप्पा की मूर्ति लाने से पहले घर में अगरबत्‍ती और धूप, आरती थाली, सुपारी, पान के पत्‍ते और मूर्ति पर डालने के लिए कपड़ा, चंदन के लिए अलग से कपड़ा और चंदन आदि चीजें तैयार रखें.

पूजा शुरू करने से पहले आरती की थाली में अगरबत्‍ती-धूप जलाएं, इसके बाद थाली में पान के पत्ते और सुपारी रखें. ऐसा करते समय ‘ ऊं गं गणपतये नम:’ का जाप करते रहें, अगर आप ये सब पुजारी जी से करा रहे हैं तो उन्हें दक्षिणा भी अर्पित करें. गौर करने वाली बात ये है कि जो भी भक्त चर्तुथी से पूर्व ही बप्पा की मूर्ति घर ला रहे हैं उन्हें मूर्ति को कपड़े से ढककर लाना चाहिए और जिस दिन मूर्ति स्थापना करें उस समय ही कपड़ा हटाएं.







Leave a Reply

Your email address will not be published.