दिल्ली में जारी हिंसक प्रदर्शन के दौरान सोमवार को पत्थरबाजी के कारण दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्सटेबल रतन लाल की मौत हो गई थी। आज उन्हें अंतिम विदाई दी गई। दिल्ली के एलजी अनिल बैजल और गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने पार्थिव शरीर पर श्रद्धांजलि अर्पित की।

दिल्ली के जाफराबाद में कुछ लोग नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शन में शामिल लोग इस दौरान हिंसक हो गए। उन्होंने कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। इस दौरान गोली लगने से एक पुलिस कॉन्स्टेबल सहित अब तक कुल नौ लोगों की मौत हो गई है। शांति बहाल करने के लिए आज अमित शाह ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, एलजी अनिल बैजल सहित दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों के साथ बैठक की। 

हिंसक प्रदर्शन के दौरान मरने वाले पुलिस कॉन्स्टेबल का नाम रतन लाल है, जो गोकुलपुर एसीपी ऑफिस में तैनात थे। प्रदर्शन के दौरान पुलिस कर्मियों पर किए गए पथराव में रतन लाल घायल हो गए थे। वह मूल रूप से राजस्थान के सीकर के रहने वाले थे और 1998 में दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल के पद पर भर्ती हुए थे। उनके परिवार में पत्नी, दो बेटियां और एक बेटा है। 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लाल के निधन पर दुख जताया और राष्ट्रीय राजधानी में शांति का आह्वान किया। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, ‘पुलिस हेड कोंस्टेबल की मौत बेहद दुःखदायी है। वो भी हम सब में से एक थे। कृपया हिंसा त्याग दीजिए। इस से किसी का फ़ायदा नहीं। शांति से ही सभी समस्याओं का हल निकलेगा।’ अधिकारी ने बताया कि झड़प में कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

Sources:-Hindustan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here