बिहारशरीफ में तीन दिवसीय योग शिविर आज से, बाबा रामदेव ने कहा, योग से मजहब नहीं बदलता, यह सभी के लिए

खबरें बिहार की

पटना: योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा कि योग एक साइंटिफिक एवं सेकुलर विज्ञान है. इसे हिंदू, मुसलमान, ईसाई, सिख समेत अन्य मजहबों के लोग भी कर सकते हैं.

 इससे कोई परेशानी नहीं है. बाबा रामदेव मंगलवार को संवाददाताओं को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि मेरे लिए सभी मजहब के लोग एक समान हैं. हैप्पीनेस व हारमोनी सभी के लिए जरूरी है. योग से घुटने का दर्द दूर हो जाता है, पेट कम हो जाता है, मोटापा कम हो जाता है. बीपी व शूगर दूर हो जाते हैं.
बाबा रामदेव ने कहा कि गुरुकुल में पढ़ाई के दौरान नालंदा के बारे में जाना था. प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय में 10 हजार छात्र पढ़ते थे तथा एक हजार शिक्षक पढ़ाते थे. महर्षि दयानंद को पढ़ने के मैकाले की शिक्षा की नहीं, आज गुरुकुल की शिक्षा की जरूरत है.    बाबा ने कहा कि आज पहली बार नालंदा आये हैं. यहां आकर मुझे असीम शांति व खुशी मिली है. यहां के लोगों की आस्था व संस्कार देख कर मन खुश हो गया.
बिहारशरीफ : तीन दिवसीय योग शिविर आज से
बिहारशरीफ : योग गुरु बाबा रामदेव का तीन दिवसीय योग शिविर बुधवार से दीपनगर स्टेडियम में शुरू होगा. इसकी सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं. इसके लिए हरिद्वार से आये कारीगरों द्वारा भव्य पंडाल बनाया गया है.
पतंजलि योग समिति के कार्यकर्ता द्वारा इस योग शिविर का प्रचार-प्रसार किया गया है. स्टेडियम में हजारों लोग एक साथ बाबा रामदेव के साथ योग करेंगे. शिविर में नालंदा, नवादा, शेखपुरा, पटना, जहानाबाद सहित अन्य जिलों से लोग शामिल होंगे. इस योग शिविर को लेकर लोगों में गजब का उत्साह देखा जा रहा है. खासकर महिलाएं इस योग शिविर को लेकर काफी उत्साहित हैं. योग शिविर में शामिल होने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को जिला स्टेडियम में पहुंचने में परेशानी न हो. इसके लिए पर्याप्त संख्या में वाहन लगाये गये हैं. जगह जगह तोरणद्वार बनाये गये हैं.
शराबबंदी बहुत बड़ा कदम
योग गुरु बाबा रामदेव ने बिहार में शराबबंदी का उल्लेख करते हुए कहा कि जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी लागू की थी, तब मैंने कहा था कि यह एक बहुत बड़ा कदम है. बिहार के पूर्व दूसरे राज्यों में भी यह प्रयास हुआ था, पर सफल नहीं हो सका था, मगर बिहार ने वह कर दिखाया है. राज्य सरकार को इससे थोड़ी रेवेन्यू कम हुई है पर घरों में सेविंग बढ़ी है.
एक बिहारी सब पर भारी स्वाभिमान का द्योतक
बाबा ने हंसी-हंसी में कहा कि कई जगह देखने व पढ़ने को मिलता है कि ‘एक बिहारी सब पर भारी’ यह बिहारी स्वाभिमान की बात है. अपने स्वाभिमान के साथ विरासत को बचाये रखने के लिए योग जरूरी है. उन्होंने तीन दिवसीय योग शिविर में सभी को आमंत्रित करते हुए कहा कि इस योग शिविर का लाभ उठाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.