दुबई से पटना छठ पर्व करने आया पूरा परिवार, आज से महापर्व शूरू

आस्था

पटना: छठ को मनाने के लिए कुछ लोग शहर से गांव जाते हैं। कुछ विदेश से अपने घर अाते हैं। ऐसे ही हैं दुबई में 10 सालों से काम करने वाले संजीव कुमार। संजीव पटना के हैं और दुबई में शपुरजी पालंजी कंपनी में एचआर हैं। संजीव अपने पूरे परिवार के साथ मंगलवार को पटना आए हैं। संजीव हर साल छठ करने पटना आते हैं। ऐसे तो संजीव पांच सालों से व्रत करते थे लेकिन अर्घ्य नहीं देते थे। वह पिछले तीन सालों से पूरी तरह छठ पर्व कर रहे हैं। संजीव ने कहा कि अपने परिवार में अपने दादा और पापा को मैंने ये पर्व करते देखा है। इसलिए अपनी घर की परंपरा को कायम रखते हुए मैंने भी ये शुरू किया।

लोक आस्था का महापर्व मंगलवार से शुरू हो जाएगा। मंगलवार को नहाय-खाय के साथ ही छठ महापर्व का अनुष्ठान शुरू होगा। चार दिवसीय महापर्व को लेकर श्रद्धालुओं ने तैयारी शुरु कर दी है। पूरे आस्था के साथ लोग पर्व की तैयारी में जुटे है। पर्व को लेकर लोगों में काफी उत्साह है। जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में पर्व का असर देखने को मिल रहा है। नहाय-खाय को लेकर बाजार गुलजार दिख रहा है। आवश्यक सामानों की खरीददारी के लिए बाजार में लोगों की भीड़ लगी है। सोमवार की सुबह से ही बाजार पूरी तरह सजा दिख रहा था। लोग नहाय खाय को लेकर अरवा चावल, चने की दाल और कद्दू की सब्जी बनाने को लेकर तैयारी कर रहे । जिनके घरों में छठ महापर्व का अनुष्ठान हो रहा है उनके घरों की रौनक बढ़ गई है।

 

पर्व को लेकर मिट्टी के दीये, मिट्टी और लोहे के चूल्हे, आम के लकड़ी की खरीददारी हो रही है। बाजार में जगह जगह आम की लकड़ी, चूल्हे तथा मिट्टी के बने अन्य बर्तनों की खरीददारी की जा रही है। शुद्ध घी की खरीद भी लोग कर रहे है। बाजार में लोहे के चूल्हे 400 से 500 रुपए तक, मिट्टी के चूल्हे 100 से 150 रुपये तक बिक रहे थे। आम की लकड़ी 40 रुपये पसेरी की दर से बिक रहे थे। कोरा धोती साड़ी की खरीदारी भी हो रही थी।

chhathpuja 2017

मिट्टी के दीये और प्रसाद बनाने के लिए हड़ोला तथा सरपोस की बिक्री भी हो रही थी। बताया जाता है कि छठ पर्व का अनुष्ठान करने वाले लोग मंगलवार को स्नान करने के वाद प्रसाद बनाएंगे। पूरी शुद्धता के साथ प्रसाद बनाया जाएगा। सबसे पहले ब्रत के अनुष्ठान करने वाले लोग प्रसाद ग्रहण करेंगे। इसके बाद परिजनों और मित्रों को प्रसाद खिलाया जाएगा। छठ पर्व को लेकर लोगों के घरों में अरवा चावल और चने की दाल को पूरी तरह से चुनने का काम किया जा रहा था। वहीं पूरी शुद्धता के साथ गेहूं को धो कर सुखाया जा रहा था। इस दौरान महिलाएं छठी मईया की गीत गा रही थी। वातावरण पूरी तरह भक्तिमय बना रहा। जमुई शहर के थाना चौक, महाराजगंज बाजार, बोधवन तालाब रोड, महिसौड़ी रोड समेत कई जगहों पर सड़क के किनारे चूल्हे तथा अन्य सामानों की दुकानें सजी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.