बिहार में आई बाढ़ की पूरी स्थिति पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद नजर बनाए हुए हैं। सीएम ने दरभंगा, मधुबनी, शिवहर, सीतामढ़ी एवं मोतिहारी के बाढ़ प्रभावित इलाकों हवाई सर्वेक्षण कर स्थिति का जायजा लिया।

मंगलवार को सदन में नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य में बाढ़ के कारण अब तक 25 लोगों की मौत हुई है। बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत कार्य चलाया जा रहा है। हम हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं। इस आपदा की घड़ी में सबको साथ मिलकर पीड़ितों को राहत पहुंचाने की जरूरत है।

सीएम नीतीश कुमार ने आगे कहा है कि SDRF & NDRF की टीम ने बाढ़ प्रवाभित क्षेत्र से करीब सवा लाख लोगों को रेस्क्यू कर सुरक्षित जगह पहुंचा दिया है। इन लोगों के लिए 199 राहत शिविर केंद्र और 76 सामुदायिक रसोईघर स्थापित किए गए हैं। इसके अलावा हर जिले में बाढ़ पीड़ितों को छह हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा जो सीधे उनके बैंक के खाते में चला जाएगा।

 बिहार में बाढ़: देर रात औराई-कटरा में बिगड़े हालात, मिथलांचल में तटबंध टूटेलगातार बारिश और नेपाल से पानी की लगातार आमद से उत्तर बिहार में बाढ़ ने विकराल रूप ले लिया है। नदियों ने तबाही मचानी शुरू कर दी है। रविवार को उत्तर बिहार के सैकड़ों गांव बाढ़ की चपेट में आ गए। देर रात मुजफ्फरपुर के औराई, कटरा में हालात बिगड़ गये।

बिहार के 12 जिलों में बाढ़
पड़ोसी देश नेपाल में मूसलाधार बारिश के बाद राज्य के 12 जिलों में आई बाढ़ की वजह से 25.66 लाख लोग प्रभावित हैं। पूर्वी चम्पारण जिले में दो अलग अलग घटनाओं में पांच और बच्चे डूब गए हैं, लेकिन राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसे बाढ़ से संबंधित घटना मानने से इनकार किया।

Sources:-Hindustan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here