सीबीआई की एफआईआर के बाद टूट जाएगा नीतीश-लालू का महागठबंधन…….. ! पढ़े

राजनीति

आरजेडी प्रमुख लालू यादव और सात अन्य लोगों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में सीबीआई के एफआईआर दर्ज होने के बाद नीतीश-लालू महागठबंधन खतरे में नजर आ रहा है.

एफआईआर दर्ज होने के कुछ घंटों में ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फौरन अपने शीर्ष अधिकारियों को आपात मीटिंग के लिए राजगीर बुलाया है.
जानकारी अनुसार राज्य के मुख्य सचिव, गृह सचिव और डीजीपी पटना से 100 किमी. दूर अपने रास्ते पर थे. इस कार्रवाई के बाद सवाल किया जा रहा है कि क्या बिहार के सीएम इस स्थिति में प्रतिक्रिया देंगे? क्योंकि, जिन लोगों के खिलाफ एफआईआर हुई है उनमें लालू यादव के बेटे और बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव भी शामिल हैं.
यह सवाल भी किया जा रहा है कि क्या ये एफआईआर और छापे लालू-नीतीश के महागठबंधन को तोड़ने में आखिरी कील साबित होंगे?
पहले से ही गठबंधन में दरार
​​पहले भी ऐसी खबरें आ चुकी हैं कि नीतीश कुमार, लालू के साथ गठबंधन तोड़ने को तैयार हैं. लालू यादव और उनके परिवार पर लगातार लग रहे भ्रष्टाचार का हवाला करोबार के आरोप और प्रवर्तन निदेशालय व आयकर विभाग के छापे नीतीश के लिए चिंता का विषय भी हैं.
बीजेपी नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा था कि उन्हें बिल्कुल हैरानी नहीं है कि महागठबंधन टूटने की कगार पर है. उन्होंने कहा, ‘पहले दिन से हम जानते थे कि इस तरह का गठबंधन पांच साल तक नहीं चल सकता. हमने सोचा था कि ये दो-तीन साल तक चलेगा लेकिन शुरू से ही बहुत से मनमुटाव होने लगे हैं.’
वहीं, इससे पहले नीतीश कुमार बीजेपी के नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक के फैसले का समर्थन भी कर चुके हैं. वह पीएम मोदी के साथ मंच साझा करते हुए भी नजर आए थे. तब भी जदयू और राजद के गठबंधन को लेकर सवाल उठे थे.
इसके बाद हाल ही में नीतीश के एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का समर्थन करने से ये चर्चाएं चरम पर पहुंच गई थीं. हालांकि, इसके बाद दोनों ही दलों ने गठबंधन टूटने की खबरों को खारिज किया. पर अब सरकार पर दाग लगने की आशंका के बीच नीतीश क्या फैसला लेते हैं ये देखना महत्वपूर्ण होगा.
होटल्स के आवंटन में गड़बड़ी
बता दें कि लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार से जुड़े कई जगहों पर शुक्रवार को सीबीआई ने छापेमारी की. कार्रवाई के बाद सीबीआई के राकेश अस्थाना ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि छापेमारी सुबह 7.30 बजे शुरू हुई. यह अलग-अलग जगहों पर अब भी जारी है. उन्होंने बताया कि 420 के तहत भी मामला दर्ज हुआ है.
उन्होंने कहा, धोखाधड़ी और साजिश का केस है. पुरी और रांची के होटल्स के आवंटन में गड़बड़ी पाई गई है. छापे की कार्रवाई के बाद बिहार की सियासत गर्म हो गई है. राजद ने इसे बदले की कार्रवाई करार दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *