बिहार की फलक खान ने बॉलीवुड में जमाई धाक, वेब सीरिज के साथ फिल्मों में नजर आ रही लीड भूमिका में

बिहारी जुनून

Patna: बचपन से ही अभिनय के प्रति जुनून और हर संघर्ष के बाद सफल होने का जज्बा। ऐसे में इंजीनियरिंग करने के बाद जब फलक खान ने अभिनय के क्षेत्र में आगे बढ़ने का फैसला लिया तो कई तरह के संघर्ष और समाज की सोच के विरोध के बावजूद अपनी सफलता से यह साबित किया कि छोटे शहर की बेटियों के सपनों में भी जीतने का बड़ा जज्बा है।

पहले छोटे पर्दे पर छोटे रोल और फिर बड़े पर्दे पर लीड रोल। महज 4 साल के छोटे से अपने कैरियर में फलक ने बॉलीवुड को अपनी अभिनय प्रतिभा का दीवाना बना लिया है। यही वजह है कि कई वेब सीरीज में अपने अभिनय का जलवा दिखाने के बाद फलक की आने वाली फिल्म वनरक्षक कहानी के साथ उसके अभिनय को लेकर चर्चा में है। फलक कहती है कि हर माता-पिता की तरह मेरे अभिभावक भी चाहते थे कि मैं एजुकेशन के क्षेत्र में ही आगे बढूं। पिता प्रोफेसर डॉ.एआर खान और मां प्रोफेसर डॉ. किश्वर अजीज खान (ब्रह्मपुरा) दोनों ही शिक्षा से जुड़े हुए हैं। फलक बताती है कि शहर से पढ़ाई करने के बाद एमआईटी से इंजीनिर्यंरग की मगर शुरू से ही मेरा मन ड्रामा, नाटक आदि में लगा रहता था। 

फलक कहती है कि जब आप छोटे शहर से मुंबई की माया नगरी में आते हैं तो कई तरह के संघर्ष आपके सामने होते हैं। खासकर लड़कियों के लिए और वह भी तब जब आपका कोई फिल्मी बैकग्राउंड नहीं होता है। इन सभी संघर्षों को अपनी मेहनत और प्रतिभा के बल पर फलक ने पार किया। शुरुआती दौर में प्रोजेक्ट के तौर पर कई शार्ट फिल्मों में काम किया। 2015 में पहली शॉर्ट फिल्म की और उसके साथ ही स्टार प्लस के दिया और बाती हम, स्टार उत्सव पर सावधान इंडिया जैसे कई सीरियल में फलक ने अपने अभिनय का जलवा दिखाया। 

खास मुद्दे पर बनी फिल्म को ही शुरू से चुनती रही 
आमतौर पर जहां लोग कमर्शियल फिल्मों से अपनी शुरुआत करते हैं,वहीं फलक ने हमेशा लीक से अलग हटकर मिली भूमिका का चयन किया। महिलाओं पर आधारित कई वेब सीरीज फलक की खासी चर्चा में रही। रंग, सोच जैसी वूमेन ओरिएंटेड वेब सीरीज में फलक ने काम किया है। अपनी आने वाली फिल्म वनरक्षक के बारे में फलक कहती है कि यह फिल्म पर्यावरण और इससे जुड़े हुए लोगों की जीवन पर आधारित कहानी पर बनाई गई। फलक कहती है कि अगर आपके अंदर कुछ करने का जज्बा है तो कोई भी संघर्ष रास्ता नहीं रोक सकती। मुझे मेरे इस सफर में अपने माता-पिता का सहयोग मिला है और इसी वजह से मैं इतना आगे बढ़ पाई।

Source : Live Hindustan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *