एक्सपर्ट शूटरों से शातिर है VTR का आदमखोर बाघः बकरी का शिकार कर सामने से निकल गया

खबरें बिहार की जानकारी

वाल्मीकिनगर टाइगर रिजर्व का आदमखोर बाघ ने वन विभाग के शूरमाओं को चकमा दे दिया। हरनाटांड़ के बरवा काला में दो लोगों को मार डालने वाला बाघ बकरी का शिकार कर एक्सपर्ट शूटरों के सामने से निकल गया। बाघ कदमहवा के हरिहरपुर में बुधवार रात आठ से 8.30 बजे के बीच एक्सपर्ट शूटर के ट्रैकुलाइजर गन से बच निकला।

शातिर बाघ ने पिंजरे में रखने पर बकरी व भैंसा को छुआ तक नहीं। बुधवार रात में रेस्क्यू टीम ने बकरी को पिंजरे के बाहर बांधा। तब बाघ ने उसे झपटकर मार डाला। इसी बीच शूटर ने ट्रैकुलाइजर गन से उसे बेहोश करने के लिए फायर किया। लेकिन बाघ चकमा देकर गन्ने के खेत में घुस गया। इससे रेस्क्यू में लगी टीम के मंसूबों पर पानी फिर गया। इसके बाद बाघ चहलकदमी करते हुए मसान नदी पार कर रघिया पहुंच गया। सुबह छह बजे तक बाघ वहीं था, लेकिन दो घंटे बाद ही रघिया से हरिहरपुर लौट आया। रेस्क्यू में लगी टीम भी बाघ के पीछे पहले रघिया गई, वहां से हरिहरपुर लौट आई।

शातिर दिमागा वाला है बाघ : डायरेक्टर

वन संरक्षक सह क्षेत्र निदेशक डॉक्टर नेशामणी के ने बताया कि बाघ बहुत ही तेज दिमाग का है। वह दो-दो, तीन-तीन घंटे पर ठिकाना बदल दे रहा है। पिंजरे में रखी बकरी का शिकार नहीं किया। पिंजरे से बाहर रखने पर उसे मार डाला। हालांकि इस दौरान शूटर के ट्रैकुलाइजर गन की फायरिंग में वह बाल-बाल बेहोश होने से बचा। बुधवार की देर रात तक चिउटाहा वनक्षेत्र की कदमहवा की ओर बाघ की चहलकदमी थी। उसके तीन चार घंटे बाद मसान नदी पार कर गुरुवार की अहले सुबह तक रघिया वनक्षेत्र के बार्डर की ओर बाघ पहुंच गया। अब फिर बाघ रघिया से लौट चिउटाहा वनक्षेत्र की ओर रूख कर लिया है। इस बार चिउटाहा वनक्षेत्र में चारों ओर वनकर्मियों की टीम को तैनात किया गया है। चार दिनों से रेस्क्यू टीम उसे पकड़ने के लिए मशक्कत कर रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.