एक्‍सपर्ट ने बताए सर्दियों में डेंड्रफ दूर भगाने के रामबाण उपाय..

जानकारी

सर्दियों में सबसे ज्‍यादा परेशान करने वाली और डराने वाली समस्‍या है डैंड्रफ. डैंड्रफ का मतलब है ऐसी सूखी और परतदार त्वचा, जो सर्दी के कारण सिर की त्वचा के सूखने पर छिल जाती है. हाल ही में पोषण विशेषज्ञ लवनीत बत्रा ने अपने एक पोस्ट में इसे पूरी तरह से रोकने के बेहतर तरीके शेयर किए.

वह लिखती हैं, “डैंड्रफ आजकल बालों की एक बड़ी और आम समस्या बनती जा रही है. यह एक ऐसी स्थिति है जो स्‍कैल्‍प की त्वचा पर गुच्छे पैदा करती है, इसके बाद त्वचा पर खुजली होती है. वैज्ञानिक रूप से बात करें तो, डैंड्रफ एक नॉन इंफ्लेमेट्री और पुरानी स्थिति है, जो सबसे आम त्वचा संबंधी त्वचा की समस्या है, जो स्‍कैल्‍प से जुड़ी है.

वे अपने पोस्‍ट में डेंड्रफ के कारणों पर चर्चा करते हुए आगे लिखती हैं “रूसी का मुख्य कारण ठीक से पता नहीं चल पाता, लेकिन कई कारक हैं जैसे ऑयली स्‍केल्‍प, हाइजीन खराब होने से फंगल इंफेक्‍शन, सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस, हेयर प्रोडक्‍ट के प्रति संवेदनशीलता और स्‍कैल्‍प पर रहने वाले एक खास तरह के फंगा कर बनना हो सकता है.

हालांकि रूसी से निपटना मुश्‍किल हो सकता है. लेकिन कई तरह के प्राकृतिक उपचार लक्षणों को कम कर सकते हैं और राहत दिला सकते हैं. यहां हम उन्‍हीं की बात कर रहे हैं.

पोषण विशेषज्ञ के अनुसार सर्दियों में डैंड्रफ को रोकने के 3 सबसे अच्छे तरीके यहां दिए गए हैं (Best ways to prevent dandruff in winter, according to the nutritionist)

1. नीम का अर्क

नीम सिर की त्वचा को साफ करने में मदद करता है और यह बालों के विकास में सुधार करते हुए बंद रोमछिद्रों को भी साफ करता है. डैंड्रफ के उपचार के लिए नीम प्रभावशाली है. नीम की पत्ती का रस लगाएं और गुनगुने पानी से धो लें.

2. दही के साथ आंवला पाउडर

आंवला, विटामिन सी का पर्याप्त स्रोत है. आंवला पाउडर रूसी से राहत दिला सकता है. दूसरी ओर, दही में ‘फ्रेंडली बैक्टीरिया’ होते हैं जो खमीर को रोक कर रखते हैं. 2 चम्मच आंवला पाउडर को दही में मिलाएं और फिर इसे अपने स्कैल्प पर लगाएं.

3. तनाव से बचें

 

तनाव आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकता है और रूसी पैदा करने वाले संक्रमणों से लड़ने की आपके शरीर की क्षमता को कम कर सकता है. इसके अलावा, तनाव अक्सर सेबरेरिक डार्माटाइटिस के एपिसोड से पहले होता है, जो डैंड्रफ के सबसे आम कारणों में से एक है. उसके लिए योग का अभ्यास करने का प्रयास करें.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.