जल्द ही खुल सकते हैं शिक्षण संस्थान, शिक्षा मंत्री ने दिए संकेत

खबरें बिहार की

Patna: बिहार में शर्तों के साथ बाजार खुलने के बाद अब सरकार शिक्षण संस्थानों को खोलने की तैयारी शुरु कर दी है. रविवार को शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि यदि स्थिति में सुधार होता रहा तो सरकार बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए शर्तों के साथ सरकारी एवं निजी स्कूल-कालेजों को खोलने का निर्देश देगी. शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षण संस्थानों को खोलने की तैयारी चल रही है.

शिक्षा मंत्री ने ट्वीट करके इस बात की जानकारी दी है. हालांकि, उन्होंने यह जरूर कहा है कि शिक्षण संस्थानों को कोविड-19  प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना पड़ेगा.”कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से कम हो रहे हैं. अगर आगे भी ऐसी ही स्थिति रही और संक्रमण नियंत्रण में रहा तो 6 जुलाई के बाद सरकार शिक्षण संस्थानों को खोलने पर विचार कर सकती है.” – शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी

ऑफलाइन क्लास शुरू
शिक्षा मंत्री ने संकेत दिया है कि सबसे पहले कॉलेज में ऑफलाइन क्लास शुरू किए जाएंगे. उसके बाद चरणबद्ध तरीके से माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूल और सबसे आखिरी में प्राथमिक विद्यालय खोलने की अनुमति दी जा सकती है.

शिक्षा मंत्री ने कहा कि बच्चों की सुरक्षा सरकार की पहली प्राथमिकता है. बच्चों की जान जोखिम में डालकर हम स्कूल नहीं खोलेंगे.6 जुलाई के बाद सरकार विश्वविद्यालय और महाविद्यालय को सबसे पहले खोलेगी. दूसरे चरण में माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालय (कक्षा 9वीं से 12वीं तक) और तीसरे चरण में प्राथमिक एवं मध्य विद्यालयों (कक्षा एक से आठ तक) के बच्चों के लिए कक्षाएं शुरू की जाएंगी. स्कूल के लिए शिक्षण संस्थानों के विशेष गाइड लाइन जारी किए जायेंगे. एक दिन में केवल 50 फीसद विद्यार्थी ही कक्षा में उपस्थित होंगे। शेष 50 फीसद अगले दिन आएंगे. कोरोना प्रोटोकाल का हर जिलों में कड़ाई से पालन कराया जायेगा.

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के संक्रमण के कारण काफी समय से लगातार स्कूल-कालेज समेत अन्य शिक्षण संस्थान बंद हैं. इससे बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है. विशेषकर छोटे बच्चों की पढ़ाई का सिलसिला टूट गया है. उनकी पढ़ाई फिर से पटरी पर आए इसी कारण हम स्कूल कॉलेज खोल रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.