दुर्गापूजा में दिखेगी अमृत महोत्सव की झलक, ‘तिरंगा महल’ में विराजेंगी मां दुर्गा

आस्था खबरें बिहार की

बिहार में दशहरा की तैयारियां मोहल्लों में दिखने लगी हैं। पटना समेत सभी शहरों के  में अलग-अलग थीम पर बनने वाले पूजा पंडाल के लिए बांस-बल्ले बांधे जाने लगे हैं। पटना के अशोक नगर स्थित डिफेंस कॉलोनी में होने वाली दुर्गापूजा में श्रद्धालुओं की बड़ी भीड़ उमड़ती है। इस साल यहां देशभक्ति से जुड़ी थीम पर पूजा पंडाल बनाने की तैयारी है। यहां इस बार आजादी के अमृत महोत्सव की झलक दिखेगी। दूर से देखने पर महसूस होगा कि पंडाल नहीं बल्कि ‘तिरंगा महल’ बना है। पंडाल निर्माण की जिम्मेवारी इस बार भी बंगाल के वर्द्धमान के कलाकार इमाम अंसारी को सौंपा गया है। डिफेंस कॉलोनी का पंडाल शुरू से इमाम अंसारी ही बना रहे हैं। यहां श्री दुर्गापूजा समिति नव युवक संघ, अशोक नगर, डिफेंस कॉलोनी (राजकीय हॉस्पिटल के सामने) के बैनर तले मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित होती है। पूजा का बजट 10 से 11 लाख के बीच होता है। इसकी व्यवस्था पूजा समिति सदस्यों के आपसी सहयोग और चंदा आदि से होती है।

चांगड़ के लोगों की प्रेरणा आयोजन समिति से अध्यक्ष कृष्णा सिंह बताते हैं कि वर्ष 2000 के पहले यहां आसपास के बड़े इलाके में नवरात्र में कोई प्रतिमा स्थापित नहीं होती थी। अशोक नगर से सटे चांगड़ गांव वासियों के अनुरोध पर उनके पिता कल्याण सिंह व हनुमान मंदिर के ट्रस्टी रहे प्रह्लाद प्रसाद के प्रयास से यहां पूजा की शुरुआत हुई। आयोजन समिति से जुड़े लोग बताते हैं कि हर साल यहां पांच से छह लाख लोग हैं। स्थानीय लोग बताते हैं कि बहुत पहले यहां स्टेज टूट गया था, पर मूर्ति व पूजा करने पहुंची सौ-डेढ़ सौ महिलाओं को खरोंच तक नहीं आयी।

ये हैं समिति में शामिल

अध्यक्ष कृष्णा सिंह, उपाध्यक्ष राहुल यादव उर्फ रामकृष्ण, कोषाध्यक्ष एकादित्य नारायण, पुरोहित राजू मिश्रा, हरेन्द्र पांडेय, सदस्य कन्हैया सिंह, भूपेन्द्र सिंह, चंदन सिंह, वेद कामत, सुमित आदि।

शस्त्र  पूजा की है परंपरा

यहां पूजा पंडाल में शस्त्रत्त् पूजा की परंपरा रही है। शस्त्रत्त् की पूजा नवमी को होती है। आयोजन समिति से जुड़े लोग बताते हैं कि पटना के पूजा पंडालों में इतनी बड़ी संख्या में अन्य कहीं शस्त्रत्तें की पूजा नहीं होती। शस्त्रत्त् पूजा के दिन यहां शहर के गणमान्य लोगों को आमंत्रित करने की भी परंपरा रही है। इस दौरान कुछ आमंत्रित लोगों का सम्मान शस्त्रत्त् देकर किया जाता है।

पूजा समिति के अध्यक्ष कृष्णा सिंह कहते हैं कि यहां होने वाले आयोजन में कई पूर्व मंत्री व राजनेता भी शामिल हो चुके हैं।

माता के रौद्र रूप की होती है पूजा

डिफेंस कॉलोनी में माता के रौद्र रूप की पूजा-अर्चना की जाती है। यहां मां दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती, गणेश और कार्तिकेय के साथ राक्षस की प्रतिमा बन रही है। स्थापना काल से पिछले साल तक यहां की प्रतिमाएं पटना के कलाकार बबलू पंडित बनाते रहे हैं, लेकिन इस वर्ष इनकी जगह रवि पंडित को प्रतिमा निर्माण की जिम्मेवारी दी गई है। यहां की प्रतिमाएं पटना परंपरा पर आधारित होती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.