दुर्गा पूजा में नहीं लगेगा मेला, गांधी मैदान में रावण दहन का कार्यक्रम भी रद्द

आस्था जानकारी

शारदीय नवरात्र गुरुवार 7 अक्‍टूबर से शुरू हो गया है. इस बार नवरात्र 8 दिनों का ही होगा. गुरुवार को देवी शैलपुत्री की पूजा-अर्चना होगी. इस बार मां दुर्गा डोली पर सवार होकर आई हैं. कोरोना संक्रमण काल में हो रहे इस त्‍योहार को लेकर सरकार और प्रशासन की ओर से नई गाइडलाइन जारी की गई है. इसका पालन करना अनिवार्य होगा. पटना जिला प्रशासन ने इसको लेकर जरूरी निर्देश दिए हैं. कोविड-19 संक्रमण को देखते हुए इस बार दुर्गा पूजा के मौके पर मेले का आयोजन नहीं होगा. साथ ही ऐतिहासिक गांधी मैदान में होने वाले रावण दहन कार्यक्रम को भी रद्द कर दिया गया है. बता दें कि इस मौके पर बड़ी तादाद में लोग गांधी मैदान में जुटते हैं, ऐसे में भीड़ न जुटे इसलिए यह फैसला किया गया है.

नवरात्र को लेकर देश के साथ बिहार में भी धूम है. कोरोना संक्रमण के साये में हो रहे दुर्गा पूजा को लेकर सरकार से लेकर प्रशासन तक अलर्ट मोड पर है. पूजा पंडालों और मेला आयोजन को लेकर प्रशासन की ओर से नया दिशा-निर्देश जारी किया गया है, जिसका पालन करना अनिवार्य होगा. पूजा पंडालों में कोविड-19 प्रोटोकॉल को मानना जरूरी होगा. मास्‍क के इस्‍तेमाल के साथ ही सैनिटाइजर की व्‍यवस्‍था करना आवश्‍यक कर दिया गया है. पटना प्रशासन ने स्‍पष्‍ट तौर पर कह दिया है कि इस बार दुर्गा पूजा मेला का आयोजन नहीं होगा. कोरोना नियमों का उल्‍लंघन करने वालों के खिलाप कार्रवाई की जाएगी.

पटना प्रशासन की ओर से जारी गाइडलाइन में कोरोना संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के लिए कई अहम निर्देश दिए गए हैं. इसके तहत ऐतिहासिक गांधी मैदान में दशहरे के मौके पर होने वाले रावण दहन कार्यक्रम को भी रद्द करने का फैसला किया गया है. बता दें कि गांधी मैदान में होने वाले रावण दहन कार्यक्रम में बड़ी तादाद में लोग शामिल होते थे. भीड़ इकट्ठा न हो इसके लिए इस साल रावण दहन कार्यक्रम को रद्द करने का निर्णय लिया गया है. पटना प्रशासन ने अहम निर्देश देते हुए नदियों में प्रतिमा विसर्जन पर भी पाबंदी लगा दी है. इस बार दुर्गा प्रतिमा को कृत्रिम तालाबों में विसर्जित किया जाएगा. हालांकि, दुर्गा पूजा के मौके पर कालिदास रंगालय में रामलीला का आयोजन किया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *