दुनिया का सबसे महंगा पनीर जिसकी कीमत है 70 हजार रुपए किलो, जानें क्यों है इतना कीमती

खबरें बिहार की जानकारी

इंडियन किचन में पनीर की खास जगह हैं। ब्रेकफास्ट से लेकर डिनर तक पनीर की कई डिशेज हैं, जिन्हें शायद गिन पाना आसान नहीं है। वहीं, अब तो चाइनीज फूड में भी पनीर का इस्तेमाल किया जाने लगा है। इससे पनीर की डिमांड और भी ज्यादा हो गई है। वहीं, पनीर लवर्स की थाली में डिशेज के ऑप्शन्स और भी बढ़ गए हैं। आपसे अगर कोई पूछे कि आपने सबसे महंगा पनीर कौन-सा खाया है? तो शायद आप सोच में पड़ जाएंगे।

इतना महंगा होता है यह पनीर 
आपने कितना भी महंगा पनीर खाया होगा लेकिन क्या आपने कभी 70 हजार रुपए किलो में बिकने वाला पनीर तो नहीं चखा होगा। यह कोई मजाक नहीं बल्कि सच है। आप सोच रहे होंगे कि आखिर यह पनीर इतना महंगा क्यों है? असल में जो चीज इसे इतना महंगा बनाती है वह है गधी के दूध का उपयोग। जी हां, आपने सही पढ़ा। इस पनीर के उत्पादन में गधी के दूध का उपयोग किया जाता है, जिसे दुनिया भर में सबसे स्वादिष्ट और महंगा पनीर/पनीर माना जाता है।
सर्बियाई पनीर क्यों होता है इतना महंगा 
दुनिया के सबसे महंगे पनीर की कीमत ने आपको हैरान तो किया ही होगा। इस पनीर को सर्बियाई पनीर के रूप में भी जाना जाता है, जिसकी कीमत सिर्फ एक किलो के लिए £ 800 (लगभग 70,000 रुपए) है।  एक किलोग्राम के लिए £800 (लगभग 70,000 रुपए) की कीमत पर, यह हद से ज्यादा महंगा पनीर ज़साविका में बनता है, जो सर्बिया के सबसे प्रसिद्ध प्राकृतिक भंडारों में से एक है। इस पनीर को पुले के नाम से भी जाना जाता है, जो गधी के दूध से बनाया जाता है। डेली मेल में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार इस पनीर का सिर्फ 1 किलोग्राम बनाने के लिए लगभग 25 लीटर ताजे गधी के दूध को मथा जाता है, यही कारण है कि यह दुनिया का सबसे महंगा पनीर है।

कैसा होता है यह पनीर 


इस पनीर के टेक्सचर की बात करें, तो मलाईदार और थोड़ा-सा टाइट होता है अध्ययनों के अनुसार गधी का दूध प्रोटीन से भरा होता है, जिसका बहुत अच्छा रोगाणुरोधी प्रभाव होता है। दरअसल, इस दूध के सेवन से वायरस और बैक्टीरिया के कारण होने वाली पेट की बीमारियों को कम किया जा सकता है। यह दूध हड्डियों के लिए भी अच्छा है और गुड बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देने में मदद करता है और आंतों के लिए भी काफी अच्छा होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.