दुकानदार के शरीर से निकला कारतूस, ढाई घंटे चली सर्जरी, रंगदारी नहीं देने पर बदमाशों ने मारी थी गोली

खबरें बिहार की जानकारी

एक लाख रुपये रंगदारी नहीं देने पर बीते शुक्रवार को बदमाशों ने सफियासराय के हसनगंज निवासी किराना दुकानदार रंजीत कुमार साह को गोली मार दी थी। रंजीत की हालत अब खतरे से बाहर है। इस मामले में जख्मी के बयान पर पीयूष और निरंजन कुमार को नामजद किया गया है।

जानाकरी के अनुसार, पुलिस ने इस मामले अब तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया है। पुलिस नामजद किए गए बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही बदमाश गिरफ्त में होंगे। शुक्रवार की रात सदर अस्पताल से चिकित्सक ने रंजीत कुमार को भागलपुर रेफर कर दिया था।

परिवार वाले मुंगेर के निजी अस्पताल में इलाज करा रहे थे। यहां से भी चिकित्सकों ने पारस अस्पताल पटना रेफर कर दिया। स्वजन रंजीत को लेकर सफियाबाद स्थित मुंगेर इमरजेंसी हास्पिटल पहुंचे। यहां डा. हर्षवर्धन के नेतृत्व में चिकित्सकों की टीम ने ढाई घंटे तक चली सर्जरी के बाद शरीर से कारतूस को बाहर निकाल दिया।

डा. हर्षवर्धन ने बताया कि जख्मी को छाती के दाईं तरफ गोली लगी थी। जिस वक्त परिवार वाले रंजीत को लेकर अस्पताल पहुंचे, उस वक्त हालत काफी गंभीर थी। कारतूस निकलने के बाद रंजीत को काफी राहत मिली है। सफियासराय ओपी प्रभारी नीरज ठाकुर ने बताया कि जख्मी रंजीत के बयान पर पीयूष कुमार और निरंजन कुमार को आरोपित बनाया गया है। पुलिस दोनों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।

दुकानदार को मिले सुरक्षा

 

मुंगेर विधायक प्रणव कुमार ने पुलिस अधीक्षक से दुकानदार रंजीत कुमार साह को सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की है। विधायक ने एसपी को पत्र लिखा है। साथ ही घटना में शामिल बदमाशों की गिरफ्तारी जल्द से जल्द किए जाने की बात कही है। मुंगेर चैंबर ऑफ कॉमर्स के सचिव रविशंकर प्रसाद, आपात चैयरमैन संतोष अग्रवाल, जिला महामंत्री भाजपा प्रो. अंजू भारद्वाज, चंदन शर्मा और दीपक कुमार ने भी आवेदन पर हस्ताक्षर कर सुरक्षा मुहैया कराने की बात कही है।

वारदात पर एक नजर

  • 20 जनवरी की शाम मारी थी गोली
  • 03 दिन बाद भी गिरफ्तारी नहीं
  • 02 लोगों को बनाया गया नामजद
  • 01 गोली शरीर के अंदर फंसी थी

Leave a Reply

Your email address will not be published.