डॉक्टर बोले- नहीं रहा तुम्हारा बेटा तो बच्चे को बचाने के लिए मुंह से सांस देने लगी मां

जिंदगी

पटना: नहर में नहाने गए 13 साल के बच्चे साहिल उर्फ छत्रशैल चौरका की डूबने से मौत हो गई। उनके साथ 5 अन्य बच्चे भी नहा रहे थे। रविवार को सुबह 9:30 बजे नहर में नहाने गए 13 साल के बच्चे साहिल की डूबने से मौत हो गई। उनके साथ 5 अन्य बच्चे भी नहा रहे थे। जिसमें से एक उनका सगा भाई राज व दूसरा बड़े पापा का लड़का ललककांत भी था। वह भाई से बोला था कि उसे तैरना आता है। बड़े भाई ने एक बाइक सवार की मदद से साहिल को नहर से बाहर निकाला। परिजन उसे गांव के डॉक्टर के पास ले गए।

– डॉक्टर ने कहा कि इसे तत्काल बालोद ले जाओ। करीब 10:30 बजे परिजन डॉ प्रदीप जैन के पास ले गए। उन्होंने कहा कि बच्चे की मौत हो चुकी है। परिजन को भरोसा नहीं हुआ। 11 बजे जिला अस्पताल पहुंचे।

– जहां डॉक्टर नुरेंद्र साहू ने भी मौत की पुष्टि की। इतने में भी मां की ममता नहीं मान रही थी। मां कामिनी बाई बार-बार चीखते हुए डॉक्टरों को कहती रही, कोई तो मेरे बच्चे को बचा लो।

– डॉक्टर ने कहा कि वह अब नहीं रहा, कुछ नहीं हो सकता तो मां बदहवास होकर अपने बच्चे को बचाने की जिद में पेट मसलती, गालों को सहलाती तो कभी मुंह पर सांस फूंकने लगी।

– मर चुके बेटे को जिंदा समझकर जिद में मां ने डॉक्टर को दोबारा चेकअप करने कहा। डॉक्टर ने दोबारा चेकअप किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.