diya

दिवाली-छठ पर बढ़ी दीये की मांग, गुलजार हो रहे कुम्हारों के आंगन

खबरें बिहार की

दीपों का पर्व दीपावली भले ही रंगीन सतरंगी बल्वों से शहर की अट्टालिकाओं को रोशनी से चकाचौंध करता हो, पर आस्था के साथ बना मिट्टी के दीयों का एक अलग महत्व है। हाईटेक युग में एक से बढ़कर एक रंगीन बल्व अपनी खूबसूरती की छटा बिखेर रहे होते हैं।

वहीं मद्धिम सा जलता हुआ मिट्टी का दीया परंपरा को जीवित रखकर तमसो मा ज्योतिगर्मय का संदेश देता है। इस आधुनिक युग में भी दीपावली के मौके पर घरों को रोशनी के लिए ग्रामीण क्षेत्रों के अलावे शहरों में भी मिट्टी के दीये जलाए जाते हैं।

diya

इस पुरातन परंपरा के जीवित रहने के कारण ही कुंभकारों के आंगन में परम्परागत रूप से चाक पर दीये का निर्माण हो रहा है। मिरचाई घाट, कंगन घाट, रानीपुर, सबलपुर, कटरा बाजार आदि इलाकों में कुंभकारों ने दीया बनाना शुरू कर दिया है।

पुश्तैनी काम में लगे संजय पंडित व किरण देवी बताते हैं कि देशहित और जागरुकता के कारण इस वर्ष चाइनीज झालर की बजाय मिट्टी के दीयों की ही मांग तेज है। हमारे परिवार में लगभग 25 हजार दीये बनाए जाते हैं जो पर्व के पहले ही बिक जाते हैं।

diya

हालांकि गंगा नदी की मिट्टी का दर बढ़ने व खेतों में बाढ़ का पानी आने से हमें मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। हमलोगों को मिट्टी ढुलाई में ही दो हजार रुपए प्रति ट्रैक्टर खर्च हो जाता है। अभी तो 50 से 60 रुपए प्रति सैकड़ा की दर से दीये बेचे जा रहे हैं, लेकिन दीपावली आते-आते मांग में बढ़ोतरी के साथ संभवत: 70 से 80 रुपए प्रति सैकड़ा की दर से बेचा जाएगा। बड़े दीयों की कीमत खुदरा बाजार में दो रुपए प्रति पीस है।

diya

diya

Leave a Reply

Your email address will not be published.