diwali puja 2017

त्योहारों की शुरुआत- 17 अक्टूबर को धनतेरस, 19 को दिवाली, 21 को भैया दूज

आस्था

दीपों का त्योहार बस दस्तक देने को तैयार है। दीपावली 19 अक्टूबर को मनाई जाएगी। इसके दो दिन दिन पहले 17 अक्टूबर को धनतेरस की तिथि पड़ेगी। इसी दिन से पांच दिनों तक दीपोत्सव का पर्व आरंभ हो जाएगा। पंडित बुद्धन ओझा ने बताया कि दीवाली के पूरे दिन चित्र नक्षत्र रहेगा।

जातक कुंभ लग्न में अपराह्न् 2:39 बजे से शाम 4.10 बजे तक स्थिर लग्न में मां लक्ष्मी की पूजा कर सकते हैं। शाम में 7:15 बजे से रात के 9:11 बजे तक वृष लग्न में पूजा करने श्रेष्ठ है। व्यापारियों के लिए दिवाली की रात सिंह लग्न में पूजा करना विशेष फल देगा। सिंह लग्न दीवाली की रात 1:43 बजे से सुबह 3:57 बजे तक है।

diwali puja 2017

वृष लग्न में होगी धनतेरस की पूजा

पंडित दीपक ओझा ने ऋषिकेश पंचांग के हवाले से बताया कि धनतेरस के दिन वृष लग्न में सामान की खरीदारी के साथ पूजन करें। इस दिन सोने-चांदी के बर्तन, आभूषण के साथ स्टील के बर्तनों की भी खरीदारी की जाती है। पंडित बुद्धन ओझा ने बताया कि सुबह से लेकर रात्रि 11 बजे तक खरीदारी करना शुभ है।

इस दिन भगवान लक्ष्मी और गणोश की प्रतिमा की खरीदारी करना शुभ फल देगा। पंडित दीपक ओझा ने बताया कि चांदी के आभूषणों की खरीदारी करना शुभ होता है। परिवार और धन-संपदा की वृद्धि के लिए लोग धनिया के बीज की भी खरीदारी करते है।

20 को गोवर्धन पूजा, 21 को चित्रगुप्त पूजा

दिवाली के अगले दिन 20 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा है, जिसे अन्नकूट भी कहते हैं। इस दिन भगवान कृष्ण के साथ गौ की पूजा की जाएगी। पंडित बुद्धन ओझा ने बताया कि गोवर्धन पूजा के दिन सुबह का मुहूर्त 6:28 बजे से 8:43 बजे तक है। वहीं शाम में 3:27 बजे से 5:42 बजे तक शुभ मुहूर्त है।

21 अक्टूबर को भैया दूज का पर्व मनाया जाएगा। इस दिन बहनें अपनी भाइयों की रक्षा के लिए व्रत करेंगी। कायस्थ लोग इसी दिन भगवान चित्रगुप्त की पूजा करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.