दिवाली पर मिट्टी का घरौंदा बनाना क्यों होता है शुभ, जानें इसे बनाने के आसान तरीके

खबरें बिहार की जानकारी

दिवाली पर कई रीति-रिवाज होते हैं। इनमें से एक है घरौंदा बनाना। असल में छोटे बच्चों के बीच मिट्टी का छोटा घर बनाने का बड़ा क्रेज होता है। दिवाली से कुछ दिन पहले घरौंंदा बनाकर इसे सजाया जाता है और फिर दिवाली पर इसमें दीए जलाए जाते हैं। माना जाता है कि जब श्रीराम, माता सीता और लक्ष्मण के साथ चौदह वर्षों का वनवास काटकर वापस अयोध्या नगरी में आए थे, तो नगरवासियों ने प्रतीकात्मक रूप से मिट्टी के घर बनाए थे। इन घरों को अनाज के दानों, फूल, खील, मिठाई, रंगों और दीयों से सजाया गया था। इसका मतलब यह था कि नगर के राजा संघर्ष के दिनों को काटकर वापस अयोध्या आए हैं। इस कारण अयोध्या के घर फिर से रोशन हो गए हैं। तब से ये मिट्टी के घर सुख-समृद्धि, खुशहाली और शांति के प्रतीक माने जाने हैं। आप भी अगर इस दिवाली मिट्टी का घरौंदा बनाना चाहते हैं, तो ये टिप्स आपके काम आएंगे।

मिट्टी को गीला करके छोड़ दें


मिट्टी को करीब एक घंंटे के लिए गीला करके छोड़ दें। ध्यान रखें कि मिट्टी ज्यादा गीली ना हो जाए। आप इसमें थोड़ा भूसा (तूड़ा) भी मिला सकते हैं, जिससे कि इसे शेप देने में आसानी हो। अब आप इससे आसानी से छोटा-सा घरौंद बना सकते हैं।

ईट का इस्तेमाल करें 
आप अगर आसानी से मिट्टी का इस्तेमाल करके घरौंदा नहीं बना पा रहे हैं, तो आप ईटों का इस्तेमाल करके ढांचा बना सकते हैं। इसके ऊपर मोटी मिट्टी की लेयर से कोटिंग कर दें। यह भी आसान तरीका है।

प्लास्टर ऑफ पेरिस 
ढांचा तैयार करने के बाद आप प्लास्टर ऑफ पेरिस का इस्तेमाल करके घर को और भी अच्छा बना सकते हैं। आप घर को प्लास्टर ऑफ पेरिस से कोट कर सकते हैं। इससे घरौंदे की फिनिशिंग बहुत ही अच्छी आती है।

वॉटर कलर का इस्तेमाल 
आपके पास अगर वॉटर कलर है, तो आपको पूरे घर को कलर करने की जरूरत नहीं है बल्कि आप प्लास्टर ऑफ पेरिस की व्हाइट दीवारों पर अलग-अलग रंगों से कोई डिजाइन बना सकते हैं। इससे घर बहुत ही सुंदर दिखाई देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.