डीजल अनुदान योजनाः अब घर जाकर आवेदन में जरूरी सुधार करेंगे सरकारी कर्मी, किसान अपने कागजात रखें तैयार

खबरें बिहार की जानकारी

कृषि मंत्री कुमार सर्वजीत ने कहा है कि किसानों को हर हाल में डीजल अनुदान का लाभ मिलना चाहिए। कृषि विभाग का दायित्व है कि सभी किसानों तक डीजल अनुदान का लाभ पहुंचाए। जिन किसानों का डीजल अनुदान का आवेदन आपने प्रक्रियागत कारणों से अस्वीकृत किया है, उनके घर तक जाएं, उन्हें त्रुटियों की जानकारी देकर इसका परिमार्जन उनके घर पर करें। इससे किसानों में विश्वास बढ़ेगा। कृषि मंत्री ने राज्यस्तरीय रबी कर्मशाला-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित करने के दौरन यह जानकारी दी। कार्यक्रम का आयोजन सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर के बापू सभागार में किया गया था। कार्यक्रम की अध्यक्षता कृषि सचिव डॉ. एन. सरवण कुमार ने की।

कृषि मंत्री ने कहा कि किसानों की समस्याओं का समाधान हर हाल में होना चाहिए। विभाग के पदाधिकारियों एवं कर्मियों को एकसाथ मिलकर टीम भावना से किसानों की समस्याओं को सुनने और समाधान करने की आवश्यकता है। किसानों के साथ हमेशा खड़ा दिखें। छोटे व सीमान्त किसानों के घर तक जाकर उनकी समस्याओं का निदान करें।

रबी-2022 को शुरू करने के साथ ही, इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि राज्य के किसानों को खरीफ मौसम में काफी कठिनाई हुई है। सामान्य से कम बारिश का सीधा असर धान की खेती पर पड़ा है। 35 लाख हेक्टेयर के लक्ष्य के विरुद्ध मात्र 30.72 लाख हेक्टेयर में धान की खेती हो पायी है। जिन किसानों ने धान की रोपनी कर ली भी गयी तो उन्हें फसल को बचाने के लिए कई बार डीजल से सिंचाई की जरूरत पड़ रही है। किसानों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर डीजल अनुदान दिया जा रहा है।

कृषि मंत्री ने कहा कि फसल क्षति का सर्वेक्षण समय से किया जाएगा। बाढ़ एवं सूखे के कारण किसानों को खड़ी फसल की भी क्षति हुई है। इसका समय से सर्वेक्षण किया जाये, ताकि राज्य सरकार किसानों की सहायता के लिए आवश्यक निर्णय तुरंत ले सके।  उन्होंने कहा कि किसान खेतों में फसल अवशेष जलाने से बचें। वे इसके लिए संकल्प लें। इसके पहले क्षेत्रीय पदाधिकारियों का फीड बैक लिया गया।

कार्यक्रम में कृषि विभाग के विशेष सचिव रवीन्द्रनाथ राय व विजय कुमार, कृषि निदेशक डॉ. आदित्य प्रकाश, निदेशक उद्यान नंदकिशोर, संयुक्त सचिव शैलेन्द्र कुमार, अपर निदेशक (शष्य) धनंजयपति त्रिपाठी, निदेशक भूमि संरक्षण बैंकटेश नारायण सिंह, निदेशक बसोका सुनील कुमार पंकज, निदेशक बामेती, आभांशु सी. जैन उपस्थित थे।

डीजल अनुदान प्राप्त करने के लिए किसान अपने कागजात तैयार रखें। इसके लिए डीजल खरीद की रशीद देना आवश्यक है। इसके अलावे किसानों को एलपीसी, अपना आधार कार्ड, बैंक खाता से संबंधित कागजातों की आवश्यकता होती है। किसान अपने पर सभी कागजात जुटाकर रखें ताकि कर्मी पहुंचें तो कोई दिक्कत नहीं हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.